GIBV_LOGO_07262016

 

Transforming India for Global Leadership  through Rural Empowerment                                       & Citizen Awareness Campaign

PO box 245, Iselin, NJ 08830   570-884-4428  http://www.gibv.org                                                      Facebook: /Gibvikas Twitter: @GIBVikas _________________________________________________________________

 ANNUAL MEETING at The Crowne Plaza Hotel, Newton, MA

July 30 & 31, 2016

                                                        Saturday, July 30, 2016

8:00 AM to 8:45 AM                                       Breakfast

Session 1      (09:00 AM to 10:30 AM)

 

09:00 AM to 09:05 AM  Welcome                                                             Pawan Roy

09:05 Am to 09:20 AM   Vision Mission, Goals and Updates           Kanchan Banerjee

09:30 AM to 10:40 AM     Interactive, online session with Networking partners in Bharat

(Hiral Mehta, All India Rural Empowerment Program, Amdavad; Urvish Kantharia, GIBV, Bharat, Amdavad; Srikanth, Karnataka Village Development, Bangalaru)

10:40 AM to 10:50 AM  Break

Session 2        (10:45 AM to 12:15 PM)

 

10:50 AM to 11:10 AM  Our role in USA                                 Girish Gandhi

11:10 AM to 11:30 AM  Our role in Bharat                            Gaurang Vaishnav

11:30 AM to 12:15 PM   Scope and Opportunities working with other organizations in Bharat

Dr. Mahesh Mehta

12:15 PM to 01:15 PM                                   Lunch

 

 

                                                                         Session 3        (01:30 PM to 03:30 PM)

 

01:30 PM to 03:30 PM   Work in the USA- Details, What, how to

(Moderator: Balaguru Teertha, Kunal Shah)

        • Chapters & Volunteers                  Avanish Raj
        • Membership & Fund-Raising      Girish Gandhi
        • Media & PR                                        Somanjana Chatterjee
        • Communication, Internal & External        Sonali Dave
        • Social Media                                      Achalesh Amar

 

03:30 PM to 4:00 PM                                      Tea Break

 

                                                                                Session 4        (04:00 PM to 05:15 PM)

 

04:00 PM to 04:15 PM                   Demonstrating Website, Facebook, Twitter, YouTube

04:15 PM to 05:15 PM                   Create Task Lists               Kanchan Banerjee

 

06:00 PM to 09:00 PM                   Event with invited Guests

(Pawan Roy, Mahesh Mehta, Kanchan Banerjee, Kunal Shah, Girish Gandhi)

06:00 PM to 06:45 PM   Reception

06:45 PM to 08:15 PM   Presentation & discussion

08:15 PM to 09:15 PM   Dinner

 

                                                                           Sunday, July 31, 2016

 

8:00 AM to 8:45 AM                                       Breakfast

 

Session 5      (09:00 AM to 10:30 AM)

 

09:00 AM to 09:15 AM                 Global Indian Business Council (GIBC)     Dhirendra Shah

09:15 AM to 09:55 AM                  Working in Bharat- Village matrix              Gaurang Vaishnav

10:00 AM to 11:00 AM                  Interactive session with Networking partners in Bharat

(Dr. Ajay Mehta, Bhopal; Shobhit Mathur, Vision India Foundation,

Delhi; Manish Manjul, Lead India 2020, Delhi)

 

11:10 AM to 11:45 AM                  Action Items, Assignments        Kanchan Banerjee,                                                                                                                                             Sneha Mehta

Next meeting Dates and Place                    Girish Gandhi

11:45 PM to 12:00 PM                   Concluding Remarks                                       Dr. Anju Preet

 

=== ==== ===== ===== ====== ====== ====== ====== =======  =======  ========

 

 

अनहोनी को होनी कर दे होनी को अनहोनी- from March 18, 2005 to June 8, 2016

अनहोनी को होनी कर दे होनी को अनहोनी.
 
March 18, 2005
U.S. Embassy Pulls India Official’s Visa
U.S. Embassy Revokes Visa of Top India State Official for Allegedly Violating Religious Freedom
 
The Associated Press
 
NEW DELHI Mar 18, 2005 — The U.S. Embassy on Friday denied a visa to the Hindu nationalist chief minister of India’s western Gujarat state over his role in 2002 religious riots. India slammed the decision, saying it showed a “lack of courtesy and sensitivity.”
 
Chief Minister Narendra Modi, a leader of India’s main opposition Bharatiya Janata Party, was denied a diplomatic visa to travel to the United States and his existing tourist/business visa was revoked, a U.S. embassy spokesman said.
 
March 18, 2005 10:00 PM
 
Representatives of 70 organizations meet under the leadership of Shri Sunil Nayak, President of IANA at his Ramada Inn for an emergency meeting to decide the fate of a previously well planned and publicized event of Modiji’s reception and talk at New York’s famous Madison Square Garden on March 20. I represented Vishwa Hindu Parishad of America.
 
It is decided unanimously to continue with the program and work out in haste a live video link with Gandhinagar for Modiji to address the audience in New York.
 
We all go home after 1:00 AM not to rest or sleep but to start an email campaign to let the community know that the program was “on” and to circulate a petition and letter campaign to the US President against denying a visa to a democratically elected leader of a state in Bharat.
 
March 19, 2005
 
Intense work by all volunteers across the country on 19th and 20th.
 
March 20, 2005 7:00 PM
 
The program is scheduled on the evening of March 20, a working day. Madison Square Garden is booked. Cost? $100,000 for a four-hour slot. A technical team has been working day and night with Gandhinagar counterparts to arrange a seamless and glitch free, live, interactive video feed.
 
In the evening, heavy rains drench New York and surrounding areas. Working day, maddening rush hour traffic and the rains do not deter NRIs who are all up in arms against US State department’s unfair decision partly taken under pressure from the anti-Hindu, anti-Modi secular (!) brigade and fundamentalist Christian lobby that was at the receiving end when Modi government clamped down on fraudulent Christian conversions.
 
People come by busloads from the neighboring states of New Jersey, Connecticut, and Pennsylvania. In no time the 4000 capacity auditorium is houseful.
 
A royal chair is at the center of the stage. It is not occupied. It symbolizes absence of Shri Narendra Modi. After some preliminaries, the giant screen comes alive and Modiji’s face appears on it. The crowd erupts in a frenzy with sustained applause for minutes.
 
Modiji is a study in equanimity. He is opposite of the crowd that is agitated and restless. He addresses the crowd with poise and dignity. Then Question-answer starts. I remember two of them vividly. (1) What is your reaction to the visa cancellation? (2) What do you see in the future?
 
Answer (1): I believe only in action, not in reaction.
Answer (2): I envision a day when Bharat would progress to a level where instead of us standing in line for an American visa, Americans will stand in line for a visa to Bharat.
 
Having known Narendrabhai from the early eighties as a Sangh Pracharak, and believing that he was guided by a divine power, I had argued then with disheartened colleagues and friends that one day, Narendrabhai would be the Prime Minister of Bharat.
 
Fast forward nine years to May 16, 2014
Narendrabhai leads BJP to an absolute majority in the national election, decimating the Congress.
 
May 26, 2014, 6:10 PM
 
Narendra Damodardas Modi takes oath as the Prime Minster of Bharat.
 
September 28, 2014 10:00 AM
 
Same Madison Square Garden where an audience of 4000 people looked at that empty chair reserved for Modiji on March 20, 2005, is filled to the brim with 19,000 NRIs. Hundreds of NRIs are looking at a giant live screen in the Times Square and still more than 10,000 are left without a ticket. Event? Prime Minister Narendra Modi is to address the Diaspora that had stood by him through thick and thin.
 
Fast forward—->
 
June 8, 2016, 11:00 AM
 
Location: US Capitol, Washington, DC
 
Audience: Joe Biden, Vice President, Paul Ryan, Speaker of the House; Mich McConnell, Majority Senate Leader; Nancy Pelosi, Minority House Leader and all Senators and Congressmen. It is the joint session of the U.S. Congress.
 
Speaker? Narendra Damodardas Modi, the Prime Minster of Bharat.
 
He speaks for almost one hour, in English. No written notes, no teleprompter. No Uh, Humm or any verbal clutches. No disjointed thoughts. He touches upon the history of the USA, shared values of the USA and Bharat, Influence of American constitution on B.R. Ambedkar, influence of Gandhiji on Martin Luther King, Jr., contribution of NRIs to the USA, Yoga’s popularity in the USA, climate change and carbon footprint, rural and agro-economy of Bharat, defense cooperation, terrorism from across the border, etc.
 
He spoke from a position of strength- He said, “cooperation and not domination”, a hint to the USA that Bharat will work with it on equal footing, not as a subservient junior partner. He ended with a quote from the famous poet Walt Whitman (1819-1892):
 
‘The constraints of past are behind us and foundations of future are firmly in place…The Orchestra have sufficiently tuned their instruments; the baton has given the signal. And there is a new symphony in play.’
 
He improvised it by adding: ‘Our relationship is primed for a momentous future. The constraints of the past are behind us.’
 
By my count, Modiji got 58 applauses and eight standing ovations in his one-hour speech.
 
Nanredrabhai, we are proud of you- from 2005 to 2016, what a journey it has been! I wish you Godspeed in making all your dreams a reality. You are not alone. I and millions are with you. Jay Hind!NaMo Swearing In photo_IMG_7358

Syrian Crisis Explained (!)

From WhatsApp

If in case it was all too confusing for you, here’s a summary:

President Assad (who is bad) is a nasty guy who got so nasty his people rebelled and the Rebels (who are good) started winning (hurrah!).

But then some of the rebels turned a bit nasty and are now called Islamic State (who are definitely bad!) while some continued to support democracy (who are still good.)

So the Americans (who are good ) started bombing Islamic State (who are bad ) and giving arms to the Syrian Rebels (who are good ) so they could fight Assad (who is still bad) which was good.

There is a breakaway state in the north run by the Kurds who want to fight IS (which is good) but the Turkish authorities think they are bad, so the U.S. says they are bad while secretly thinking they’re good and giving them guns to fight IS (which is good) but that is another matter.

Getting back to Syria.

So President Putin (who is bad because he invaded Crimea and the Ukraine and killed lots of folks, including that nice Russian man in London with polonium poisoned sushi, has decided to back Assad (who is still bad) by attacking IS (who are also bad ) which is sort of a good thing (!?).

But Putin (still bad) thinks the Syrian Rebels (who are good) are also bad, and so he bombs them too, much to the annoyance of the Americans (who are good) who are busy backing and arming the rebels (who are also good).

Now Iran (who used to be bad, but now they have agreed not to build any nuclear weapons with which to bomb Israel are now good) are going to provide ground troops to support Assad (still bad) as are the Russians (bad) who now have ground troops and aircraft in Syria.

So a Coalition of Assad (still bad) Putin (extra bad) and the Iranians (good, but in a bad sort of way) are going to attack IS (who are bad which is good, but also the Syrian Rebels (who are good) which is bad.

Now the British (obviously good, except that silly anti-Semite who leads the Labor Party, Mr. Corbyn in the corduroy jacket, who is bad) and the Americans (also good) cannot attack Assad (still bad) for fear of upsetting Putin (bad) and Iran (good/bad) and now they have to accept that Assad might not be that bad after all compared to IS (super bad — see Paris, November 2015).

So Assad (bad) is now probably good, being better than IS and, because Putin and Iran are also fighting IS, that may now make them good. America (still good) will find it hard to arm a group of rebels being attacked by the Russians for fear of upsetting Mr. Putin (now good) and that nice mad Ayatollah in Iran (also good?) and so they may be forced to say that the Rebels are now bad, or at the very least abandon them to their fate. This will lead most of them to flee to Turkey and on to Europe or join IS (still the only consistently bad).

To Sunni Muslims an attack by Shia Muslims (Assad and Iran) backed by Russians will be seen as something of a Holy War. Therefore, the ranks of IS will now be seen by the Sunnis as the only Jihadis fighting in the Holy War and hence many Muslims will now see IS as good (duh).

Sunni Muslims will also see the lack of action by Britain and America in support of their Sunni rebel brothers as something of a betrayal (might have a point?) and hence we will be seen as bad.

So now we have America (now bad) and Britain (also bad) providing limited support to Sunni Rebels (bad ) many of whom are looking to IS (good/bad ) for support against Assad (now good) who, along with Iran (also good) and Putin (now, straining credulity, good ) are attempting to retake the country Assad used to run before all this started.

Got it?

हेमंत करकरे क्या वास्तव में शहीद हैं….?

FromWhatsApp:

हेमंत करकरे क्या वास्तव में शहीद हैं…?
बात निकलेगी तो फिर दूर तलक जाएगी…

26 नवंबर 2008 की रात मुंबई की गिरगाव चौपाटी रोड पर रुकी कार के भीतर अत्याधुनिक आग्नेयास्त्रों से लैस वो 2 खूंख्वार आतंकी बैठे थे जो उस रात मुंबई की सडकों पर खून की होली खेलने निकले थे और पिछले 2 घंटों में ही मुंबई CST सहित कई स्थानों पर लगभग 60-70 निर्दोष नागरिकों को मौत के घाट उतार चुके थे.
गिरगांव चौपाटी पर उस रात उस कार का रास्ता रोक कर खड़ी हुई मुंबई पुलिस की टीम के सदस्य असिस्टेंट सब इन्स्पेक्टर तुकाराम ओम्बले इस स्थिति को अच्छी तरह जान समझ रहे थे. हालांकि उनके हाथ में पिस्तौल या रिवॉल्वर के बजाय केवल लाठी थी और अच्छी या ख़राब बुलेटप्रूफ जैकेट तो छोडिए, उनके बदन पर बुलेटप्रूफ जैकेट ही नहीं थी. लेकिन इसके बावजूद तुकाराम ओम्बले ने अपने कदम कार की तरफ और अपने हाथ उन आतंकियों के गिरेबान की तरफ बढ़ा दिए थे. जवाब में आतंकियों की बंदूकों से बरसी गोलियों से छलनी होने के बावजूद उन आतंकियों की कार में घुस गए तुकाराम ओम्बले ने उनमें से एक आतंकी का गिरेबान तबतक नहीं छोड़ा था जबतक उसको कार से बाहर घसीटकर सड़क पर पटक नहीं दिया था. इसी आतंकी की पहचान बाद में अजमल कसाब के नाम से हुई थी.
इसी दिन 26/11 की रात, गिरगांव चौपाटी की इस घटना से लगभग 45 मिनट पहले ही आतंकी कसाब और उसके आतंकी साथी से 8 पुलिस कर्मियों की टीम का सामना हो गया था. टीम का नेतृत्व हेमंत करकरे कर रहे थे. करकरे और उनकी टीम के पास तुकाराम ओम्बले की तरह केवल लाठी नहीं बल्कि आटोमैटिक पिस्तौलें और राइफलें थीं. करकरे और उनकी टीम तुकाराम ओम्बले की तरह केवल सूती कपडे की सरकारी वर्दी नहीं पहने थी, बल्कि बाकायदा बुलेट प्रूफ जैकेट और हेलमेट पहने हुए थे. बुलेट प्रूफ घटिया थी कहने से काम नहीं चलेगा क्योंकि वो जैकेट चाहे जितनी घटिया रही हो किन्तु तुकाराम ओम्बले की सूती कपडे वाली सरकारी वर्दी से तो हज़ार गुना बेहतर रही होगी.
सिर्फ यही नहीं, गिरगांव चौपाटी पर हुई मुठभेड़ में तो आतंकी कार में, आड़ लेकर बैठे थे जबकि तुकाराम ओम्बले के पास खुली सड़क पर किसी तिनके तक की ओट लेने की गुंजाईश नहीं थी.
जबकि करकरे और उनकी टीम की स्थिति इसके ठीक विपरीत थी.
उनके सामने दोनों आतंकी खुली सड़क पर बिना किसी ओट के खड़े थे और करकरे अपनी टीम के साथ कार के भीतर थे इसके बावजूद उन दोनों आतंकियों ने करकरे समेत उनकी पूरी टीम को मौत के घाट उतार दिया था और करकरे व उनकी पूरी टीम मिलकर उन दोनों को मारना तो दूर उनको घायल तक नहीं कर सकी थी. जबकि निहत्थे तुकाराम ओम्बले ने सीने पर गोलियों की बौछार सहते हुए भी कसाब सरीखे आतंकी को कार के भीतर घुसकर बाहर खींच के सड़क पर पटक दिया था. यह था वो ज़ज़्बा और जूनून जिसने तुकाराम ओम्बले को शहादत के सर्वोच्च शिखर पर पहुंचा दिया.
करकरे और उनकी टीम उन दो आतंकियों का सामना क्यों नहीं कर सकी थी.?
इस सवाल का जवाब देश को आजतक नहीं मिला. संकेत देता हूँ कि जवाब क्यों नहीं मिला था.
दरअसल उनके रक्त के नमूने जेजे अस्प्ताल ने इसबात की जांच के लिए फोरेंसिक लैब में भेजे थे कि क्या उन्होंने शराब पी रखी थी.?
फोरेंसिक लैब की जांच का परिणाम क्या निकला था.?
देश को आजतक यह भी नहीं बताया गया.
मित्रों यह कोइ ऐसा रहस्य नहीं था जिसके उजागर करने से देश की सुरक्षा को कोई खतरा उत्पन्न हो जाता. लेकिन देश को यह नहीं बताया गया.
अतः मेरा स्पष्ट मानना है कि, उस रात यदि वास्तव में कोई शहीद हुआ था, जिसकी शहादत के समक्ष पूरा देश सदा नतमस्तक होता रहेगा, तो वो नाम था तुकाराम ओम्बले का.
जबकि हेमंत करकरे और उनकी टीम की मौत उस रात उन आतंकियों के हाथों मारे गए अन्य नागरिकों की तरह ही हुई एक मौत मात्र थी. क्योंकि शहीद वो कहलाता है जो तुकाराम ओम्बले की तरह सामने खड़े दुश्मन पर जान की परवाह किये बिना टूट पड़ता है. इस आक्रमण में हुई उसकी मौत को देश और दुनिया शहादत कहती है.
यदि हेमंत करकरे और उनके साथी शहीद हैं तो फिर उस रात आतंकियों द्वारा मारा गया हर नागरिक शहीद है.
आज यह विवेचन इसलिए क्योंकि कांग्रेसी इशारे पर साध्वी प्रज्ञा के साथ हेमंत करकरे द्वारा किये गए राक्षसी अत्याचारों और फर्ज़ीवाड़े की अदालत और जांच में उडी धज्जियां के बाद उजागर हुई अपनी साज़िशों पर पर्दा डालने के लिए कांग्रेस ने यह विधवा विलाप प्रारम्भ किया है क़ी साध्वी प्रज्ञा की रिहाई से शहीद हेमंत करकरे और उनकी शहादत का अपमान हुआ है.
मित्रों इस देश में अब शहादत का सर्टिफिकेट वो कांग्रेस नहीं बाँट सकती जो सरकारी किताबों में भगत सिंह, चन्द्रशेखर आज़ाद को आतंकवादी और नेहरू को महान स्वतंत्रता सेनानी लिखकर देश के बच्चों के मन में ज़हर घोलती रही हो.

आसमान में थूकने चले थे युगपुरुष | आसमान ने आज तक का सभी का थूका हुआ उन्ही पर पड़ा है |

Received fromWhatsApp-Author unkown.

आसमान में थूकने चले थे युगपुरुष | आसमान ने आज तक का सभी का थूका हुआ उन्ही पर पड़ा है |

स्वयं स्वघोषित फर्जी राजा हरिश्चंद्र जी ने एडमिशन लिया था जिंदल के मैनेजमेंट कोटे से | अरविन्द केजरीवाल का IIT- खड़गपुर में प्रवेश परीक्षा JEE के बजाय बिना नियमों का पालन किये जिंदल के सौजन्य से स्टाफ कोटे से हुआ था |

चला था प्रधानमंत्री की डिग्री के लिए RTI करने | उसी की डिग्री की असलियत पता चल गयी | बैक डोर से IIT में एडमिशन लेकर IIT करने का दम भरने वाला अरविंद फर्जीवाल केजरी बड़ा महारथी निकला | हिन्दुस्तान टाइम्स के एक रिपोर्टर ने RTI के जरिए से खुलासा हुआ कि 1985 में IIT में प्रवेश लेने वाले फर्जीवाल ने IITJEE परीक्षा नहीं दी थी | उसे एडमिशन दिलाया IIT खड़गपुर के तत्कालीन निदेशक प्रोफ़ेसर जी० एस० सान्याल और नवीन जिंदल के पिता के नज़दीकी संबंधों ने | दरअसल खड़गपुर में स्टाफ ने अपने आश्रितों के लिए प्रवेश के गैरकानूनी तरीके से रास्ता बना रखा था | जिसे सरकार ने गैरकानूनी मानते हुए 2005 में समाप्त कर दिया |

अरविन्द केजरीवाल के पिता गोविंद राम केजरीवाल 1985 में जिंदल स्टील में उच्च पद पर थे | उन्हीं ने जिंदल से कहलवा कर जी० एस० सान्याल के कोटे से IIT खड़गपुर में ऑल इंडिया रैंकिंग के न रहते हुए प्रवेश दिलाया था |

जो लोग फ़र्जीवाल के DNA की जाँच कराना चाहते थे, उनके लिए यह सूचना अत्यन्त महत्वपूर्ण है. बॉयोलॉजिकल फ़ादर जहाँ गोविंद राम केजरीवाल हैं वहीं IIIT खड़गपुर में प्रवेश लेते समय प्रोफ़ेसर जीएस सान्याल को बाप बना लिया था (केजरीवाल इतना नीचे गिर जाएगा कि बाप भी बदल लेगा ये तो सोचा भी न था) |

इसने किसी मेधावी छात्र का अधिकार मारा है | बड़ा भ्रष्टाचार भ्रष्टाचार करता रहता है न, सबसे बड़ा भ्रष्टाचारी यही है | क्योंकि जिसका जन्म ही भ्रष्टाचार से हुआ हो वो अच्छे आचरण कहाँ से ले आएगा | एक चोर को हर व्यक्ति में अपने जैसा चोर ही नजर आता है सबको संदेह की निगाहों से देखता है | मित्रों अब समझ में आया ये डिग्री डिग्री क्यों चिल्लाता रहता है, क्योंकि इसकी खुद की डिग्री ही फर्जी है |

इसके ऊपर दो-दो बाप रखने का भ्रष्टाचार का मामला बनता है

स्वघोषित नकली राजा हरिश्चंद्र अरविन्द केजरीवाल दिल्ली की जनता ने काम करने के लिए चुना है औकात से बढ़कर नौटंकी करने के लिए नहीं |

 

Game Plan- Create Dissention in each Group that Voted for Modi

From WahtsApp by Pankaj Ojha

मई 2014
मोदीजी pm बन गए
रिपोर्ट आई की
इस बार मोदी को
एक तरफ़ा वोट मिला
1) नोजवानों से ,
खासकर कॉलेज छात्रों से
2) कमजोर तबकों से,
खासकर दलितों से
3) हिन्दू समाज से,
खासकर मध्यम वर्ग से
4) गुजराती लोगों से,
खासकर पटेलों से
5) मुस्लिम समाज से,
खासकर गरीब मुस्लिम से
6) महिलाओं से,
खासकर धर्मप्रेमी महिलाओं से
7) व्यापारी वर्ग से,
ख़ासकर छोटे मझोले वर्ग से
8) देश के थिंकटैंक से,
खासकर बुद्धिजीवी वर्ग से
ऐसे कई कई वर्गों ने अपनी
पुश्तैनी राजनीतिक निष्ठां
को दरकिनार कर मोदी को
वोट दिया। कश्मीर से
कन्याकुमारी तक यही देखने में
आया।
हर राजनीतिक दल इसे महसूस कर
पाया,
पुरे भारतवर्ष में।
इसका तोड़ निकाला गया।
नतीजा आज आपके सामने है।
हर उस वर्ग को सबसे पहले
चिन्हित किया गया जिसने
मोदी को एक तरफ़ा वोट
दिया। फिर उस वर्ग की
“दुखती नस” मार्क की गई और
खेल शुरू हुआ।
बेहद सटीक और बारीकी से
चुन चुन कर इन वर्गों को टारगेट
करना शुरू हुआ।
किरदार लिखे गए और
हर वर्ग को एक टार्गेटेड
किरदार दिया गया।
उसकी टाईमिंग तय की गई।
और अपने हाथ में रिमोट रखा
प्रमुख विपक्षी दल ने ।
भांड मीडिया इसमें अहम रोल
अदा करने वाला था।
मकसद इन सबका एक था-
हर वर्ग को तोडना,
हर वर्ग को जहर से भरना,
हर वर्ग को छिन्न भिन्न करकें
रखना ,
ताकि फिर वो भविष्य में,
कभी एक होकर,
मोदी को वोट ना दे
अब आप खुद इस बड़े से खेल को
समझिये,
इनकी परफेक्ट टाइमिंग को
समझिये,
इनके वेल प्लेसड किरदारों को
देखिये,
बेहद खूबसूरत स्क्रिप्ट को
पढ़िए। हर बयान की एक परफेक्ट
टाइमिंग
स्पष्ट रखी दिखेगी।
1) नोजवानों के लिए
JNU वाला उमर खालिद
किरदार
2) दलित वर्ग के लिए
रोहित वेमुला वाला किरदार
3) हिन्दू वर्ग के लिए
फ़िल्मी खान वाला किरदार
4) गुजरती पटेलों के लिए
हार्दिक पटेल वाला किरदार
5) मुस्लिमो के लिए
अख़लाक़ वाला किरदार
6) महिलाओं के लिए
शनि शिंगापुनकर वाली
किरदार
7) व्यापारी वर्ग के लिए
GST वाला किरदार
8) बुद्धिजीवी वर्ग के लिए
असहिष्णडू वाला किरदार
मजे और आश्चर्य की बात यह की
इसमें नया कुछ भी नही है। वर्षो
से समाज में चली आ रही
बुराइयों को ही आधार बनाया
गया है।
सिर्फ मोहरे बदल कर
नए वो किरदार लाये गए हैं
जो जवान है
जोश से भरपूर हैं।
ये तो बानगी है उन किरदारों
की अब तक सामने आ गए हैं।
भविष्य में और भी सामने आएंगे ,
अपनी परफेक्ट
स्क्रिप्ट और टाइमिंग के साथ।
आपको ,
हमको ,
हिंदुस्तान,
को तोड़ने की साजिश के साथ।
सजग रहिएगा
होश से काम लीजिएगा
अपने विवेक को
मरने न दीजियेगा
अपनी एकता बनाये रखना
किसी भी उकसावे में न फँसना
हम “अनेक” थे
हम “अनेक” हैं
हम “अनेक” ही रहेंगे
अपनी इसी
“अनेकता में एकता”
में हमारी ताकत और
सुनहरा भविष्य निहित है
हमारी सोच और कल्पना से भी
आगे/बड़े ,
इस गेमप्लान की हवा को,
सिर्फ हमारी
शालीन ,गरिमापूर्ण,
मजबूत एकता से ही निकला जा
सकता है।
धीरज संयम रखकर,
मोदीजी को आपका और आपके
बच्चों का
सुनहरा भविष्य बनाने का
मौका दीजिये
क्योंकि वे अब तक की हर
अग्निपरीक्षा में सफल हुए हैं

My comments: BEWARE of the Wolves. Stay United. 2019 battle has already started. Take this message to every home and also to BJP leaders in your area.

Why are women not allowed in Shani Temple?Sadguru Jaggi Vasudev

Received from Pradeep Lakhe on a Facebook Comment on Shefali Vaidya’s post

Just cut n pasting message from Sadguru…. You may agree to disagree……..
Questioner: Sadhguru, why are women not being allowed into certain temples? For example, now with the Shani temple. Why this discrimination?

Sadhguru: At Linga Bhairavi, men are not allowed to enter the sanctum sanctorum, but they never protest. They are married and domesticated – they have been trained not to protest against anything (laughter).

It needs to be understood that these temples are not places of prayer – they are different types of energies. Since we are aware that the planets in the solar system have an impact upon our physiology, our psychological structure, and the context of our lives, we have created temples for the different planets.

Based on the time and date of your birth, and the latitude and longitude of your place of birth, Indian astrologers make complex calculations to see which planets have the greatest influence on your life. These things are relevant to you to some extent. However, if you have access to inner technology, it will level out these planetary impacts.

Shani or Saturn, which is a faraway planet, takes 30 years to complete one revolution around the sun. Considering the revolutions of Saturn and those of the Earth, and your birth details, they can calculate what impact Saturn has on you at different times of your life.

Shani is one of the sons of Surya, the sun – the other one being Yama. Shani is the lord of dominance, distress, depression, disease, and disaster. Yama is the lord of death – the “D” company. These two are brothers-in-arms, always working in tandem. Their mother, Surya’s wife, is Chaya. Chaya means “shadow.” This is science expressed in a dialectical way. The sun is the source of light for us. His wife is Chaya – shadow. Only because there is sunlight, there is shadow.

The seventh day, Saturday, is the day of Saturn. Seven being Saat, it isSaaturday or Saturday. Saturn is the seventh planet or graha in the Indian astrological system. The word “graha” means “to grasp” or “to impact.” Saturn as per modern astronomy is the sixth planet. But the Indian astrology looked at celestial objects which have a strong impact on life upon this planet. In that context, Sun and Moon are also counted as grahas, not to be understood as planets, making Saturn the seventh graha.

In the order of grahas that have a strong influence upon this planet – Sun, Moon, Mercury, Venus, Mars, Jupiter and Saturn – though Shani is the seventh, he is a very dominant force, as health and happiness give you freedom of life, but disease and depression will seriously dominate your life. The question is are you allowing external forces, such as the celestial objects, to influence or impact you, or is your inner nature the only influence upon you. Hence, in this tradition, profound astrologers refused to make predictions for those who are on the spiritual path or under the influence of a spiritual Guru.

Because his is a 30-year cycle, once in 30 years, you become more susceptible to the influence of Saturn. This phase, known as Saade Saati, or in Tamil,Yelarai Shani, lasts for seven and a half years. You may become more susceptible to disease, depression, disasters, and death, and more vulnerable to external influences. In order to bridge the pits that may occur during a Saade Saati, various processes and rituals are associated with Shani temples.

There are temples for Shani Deva, where Saturn is personified as a god. Currently, there is this controversy about allowing women to enter a certain temple in Maharashtra, the Shani Shingnapur temple. Very powerful processes are conducted at this temple. Shani temples are mainly used for occult purposes and exorcism. People come there mainly to ward off occult influences or because they feel they are possessed. Because occult processes are conducted there, the energies are not conducive for women. As a woman is entrusted with the significant responsibility of manufacturing the next generation, her body is far more receptive and vulnerable to certain types of energies – especially during pregnancy and menstrual cycles.

Should women not enter the sanctum at all? They could if they were appropriately trained for it, but it would be much more difficult to train women than men for this purpose, simply because of a few biological advantages men have in this area of life. In the very nature of female biology, occult forces can have a deeper impact upon her system.

To remove occult influences and perform exorcisms, certain energies are used that are not nice for a woman at all. Shani is not nice. But he is a part of our lives – we have to deal with him too. Because of these occult forces, women are asked not to enter the area where such things are done. It would not be good for their physical wellbeing.

When certain things go wrong with life, you have to deal with them in a certain way, which may not be pleasant. These temples were created for this purpose. Today, some people perceive it as discrimination that women should not enter this space. It is not discrimination but discretion.

Maybe the way it is enforced is crude and seems discriminatory, and that is why these women are protesting. If one day, men protest in front of Linga Bhairavi and want to enter the sanctum, I will lock it. I will not let them into sanctum because it is not designed for men unless they are appropriately trained for it. This is not discrimination – it is necessary discretion. The space of Dhyanalinga, for one-half of the lunar cycle, is managed by men; for the other half, it is managed by women – as that is the nature of an inclusive consecration, which Dhyanalinga is.

At certain temples, like the Velliangiri hill temple, women are prevented from going up the mountain, as the path goes through dense forest that was rich in wildlife in the past, and it was considered unsafe for women to take this journey. But today, these rules can be relaxed.

In view of the demand to allow women entry to the Shani temple, we need to educate people about the science behind these temples – what they are about and why they were built. In today’s democratic fervor, we want to establish equality, but in certain contexts, this would work to the disadvantage of women. Otherwise, we are one species and two genders. Except for a few areas such as this one, the only places where gender should matter are bathrooms and bedrooms.

Love & Grace,

Sadhguru

USCIRF gets its comeuppance from Modi Sarkar – Radha Rajan

An excellent, eye opening article; but you have to be patient. it will take you good part of an hour to read and digest. Do not take it to bed to read because you won’t be able to sleep after reading it.

Bharata Bharati

USCIRF Catholic Team

Radha Rajan is the editor of Vigil Online“National security is threatened not only when our borders are threatened by foreign invaders in conventional war, but when our homes, communities and societies are threatened by religious invaders and terrorists. Christian missionaries and Islamic terrorists threaten Hindus and Hindu society. The right to revenge is as much the prerogative of Hindus as it is of the US. So USCIRF cannot preach to India what America has never practiced.” – Radha Rajan

United States Commission on International Religious FreedomModi Sarkar gladdened the hearts of Hindu nationalists when it refused to give visas to a company of American sewage inspectors called USCIRF which wanted to come to India to inspect the state of religious freedom in Modi’s India. The USCIRF bared its fangs in 2002 when the BJP led by Atal Behari Vajpayee was in power. The opening paragraph of a news report featured on the front page of The Hindu dated 2nd October, 2002, titled “Designate…

View original post 5,615 more words

An Open Letter to Rahul Gandhi

Source Unknown. WhatsApp by Hiren Megha

🙏कोई पहुंचा दो मेरा ये ख़त 🙏
प्रति,
राहुल गांधी
सांसद/ महासचिव
भारतीय राष्ट्रीय कांग्रेस

राहुल जी, आज आप का #JNU में दिया भाषण सुना और मजबूर हुआ ये पत्र लिखने को।आज आपने महज दो हजार छात्रो के सामने ही भाषण नहीं दिया बल्कि आपने छात्र के लिबास में वहां घूम रहे राष्ट्र विरोधी ताकतों को भी सम्बल प्रदान कर दिया कि हिंदुस्तान मुर्दाबाद और पाकिस्तान जिंदाबाद के नारे लगाने पर उस राजनैतिक दल को कोई आपत्ति नहीं है जिसने आजादी के बाद 60 सालो तक इस देश की कमान संभाली है और भविष्य में भी इस देश की कमान सँभालने को अपना स्वाभाविक हक़ मानती है।

राहुल,आपने #JNU में कहा कि छात्रो की आवाज दबाने वाला सबसे बड़ा राष्ट्रद्रोही है। आपका मतलब हिंदुस्तान की न्यायपालिका ने आप की ही सरकार के दौरान जिस आतंकवादी अफजल गुरु को फाँसी दी थी उसको नाजायज मान कर उसे शहीद का दर्जा देने वाले राष्ट्रद्रोही पर अगर सरकार कार्यवाही करती है तो क्या वो सरकार राष्ट्रद्रोही सरकार है।

#Rahulgandhi जी आप ने कहा कि युवा अपनी बात कहते है तो सरकार उन्हें देशद्रोही कहती है। आप का मतलब है कि “कितने अफजल तुम मारोगो-हर घर से अफजल निकलेगा” के नारे लगाने वाले और… “हमको चाहिए आजादी” के नारे लगाने वालो को सरकार ताम्रपत्र से सम्मानित करना था ?

रोलिंस कालेज से स्नातक और केम्ब्रिज विश्वविद्यालय से मिली एम्फिल की डिग्री आप को किस पढाई पर मिली मैं ये नही जानता पर इतना जरूर लगता है कि आज का आप का भाषण न आपकी दादी स्व.इंदिरा गांधी को पसंद आया होगा और न आप के पिता स्व.राजीव गांधी को।उन्हें भी आज शायद यही लगा होगा की उन्हें आप को हिंदुस्तान के किसी सरकारी स्कूल में पढ़ाना था जहाँ और कुछ पढ़ाया जाय या न पढ़ाया जाय… राष्ट्रभक्ति के भाव और उसका प्रकटीकरण जरूर सिखाया जाता है।

आप मेरी इस समीक्षा को मेरे भाजपाई होंने से जोड़ कर प्लीज ख़ारिज मत कीजियेगा। हाँ मैं हूँ भाजपाई….#BJP …। पर भाजपाई होने से पहले एक हिंदुस्तानी हूँ और आप ने आज मेरे जैसे करोडो हिन्दुस्तानियो का दिल दुखाया है।हिंदुस्तान को गाली और पाकिस्तान के लिए दुआ मांगने वालो के साथ आप का खड़ा होना वाकई एक सच्चा हिंदुस्तानी होने की वजह से शर्म से आज मेरा सर झुक गया।

आज आपके एक भाषण ने वो कर दिया जो पाकिस्तान की पूरी आईएसआई और सैकड़ो हाफिज सईद नहीं कर पाये…। वो है हम हिंदुस्तानियो का मनोबल तोड़ना…देश के सैनिको के मन में इस प्रश्न को पैदा करना कि वो अपनी जान की बाजी किसके लिए और क्यों लगा रहे है..?

मैंने सीताराम येचुरी को कोई पत्र नहीं लिखा क्यों कि वो वही कह रहे है जिसकी मुझे उनसे उम्मीद थी…पर आप से इस भाषण की उम्मीद नहीं थी मुझे।#sitaramyechury

राहुल जी..आप नरेंद्र मोदी से नफरत कीजिये वो आप का हक़ है पर..देश से आप प्यार करेंगे ये तो उम्मीद हम रख सकते है न…..आप भारतीय जनता पार्टी को खूब भला बुरा बोलिये…वो भी आप का हक़ है मगर…राहुल जी… देश को भला बुरा बोलने वालो के साथ आप नहीं खड़े होंगे ये उम्मीद तो हम रख ही सकते है न…फिर क्यों…आखिर क्यों..??

राहुल जी #JNU मामले में आप दो दिन चुप रहे तो लगा कि आप भी भारत जिंदाबाद करने वालो के साथ है…मगर जब आपने बोला तो अफसोस… आपने देश को आतंकवाद के मामले में दो भाग में बाँट दिया…।

भारत की विश्व भर में आतंकवाद के मुद्दे पर छेड़ी गई लड़ाई को घरेलू मोर्चे पर ही आपने कमजोर कर दिया।

जरा सोच के देखियेगा कि आप के एक भाषण ने कश्मीर मुद्दे पर भारत को कितनी क्षति पहुचाई है ?

इशरत जहाँ आतंकवादी थी ये हेडली की गवाही से एक बार फिर साबित हुआ है। अब आप अपनी और अपनी पार्टी के पिछले बयानों और क्रियाकलापो पर चिंतन कीजिए। नफरत के हद तक मोदी विरोध की तीब्र इच्छा और प्रयास ने आप को देश द्रोहियो के कवच-कुंडल की तरह तो नहीं खड़ा कर दिया है…? चिंतन कीजिये

मुझे आप की राष्ट्रभक्ति पे प्रश्नचिन्ह लगाने का कोई हक़ नहीं है और न मैं कोई प्रश्नचिन्ह लगा रहा हूँ…। मुझे आपकी राष्ट्रभक्ति के प्रकटीकरण के उस तरीके पर एतराज है जो दुश्मनो का मनोबल बढाये और राष्ट्रभक्तो का मनोबल तोड़े। ये तब भी होता है जब देश का प्रधानमंत्री विश्व मंच पर आतंकवाद के खात्मे का नारा दे कर पूरे विश्व को एक करता है और उसके घर लौटने से पहले आप उसकी छिछालेदर में जुट जाते है।

दिग्विजय सिंह की क्लास में जहाँ आतंकवादी ओसामा बिन लादेन को “ओसामा जी” कह कर बुलाने की शिक्षा दी जाए वो क्लास ठीक नहीं है।

राहुल जी अभी एक न्यूज़ चॅनल ने दिल्ली में सर्वे कराया जिसमे उसने आप की लोकप्रियता सात प्रतिशत बताई।मुझे लगता है कि यह आंकड़ा दिल्ली में आपकी पार्टी को मिलने वाले व्होट प्रतिशत से भी बेहद कम है।आप और आपकी पार्टी ने इस सर्वे को नकारा नहीं है। तो अगर ये सर्वे सही है तो भाजपाई हो कर भी मेरी सलाह है कि आप अपने काम करने का बाकी तरीका बदले या न बदले मगर अपनी राष्ट्रभक्ति के प्रस्तुतिकरण के तरीके पर आत्मचिंतन अवश्य कीजिये।क्यों कि अगर आपके इस प्रगटीकरण और भाषण से हाफिज सईद और जकी उर रहमान लखवी पाकिस्तान में बैठ कर खुश हो रहे है तो कही न कही कुछ गड़बड़ जरूर है…।

और कुछ नहीं तो अपने भाषण लिखने वाले को तो आज ही बदल डालिये.. प्लीज ….

भवदीय
एक राष्ट्रभक्त

हम सब बलिदान ना सही पर देश कै लिए इस छोटा सा काम तो कर सकते हैं ना

Author Unknown

आप सबसे निवेदन है, यह मैसेज सिर्फ 3 लोगों को जरूर भेजें… और उन तीन लोगो को कहे की यह मैसेज आगे तीन लोगों को भेजें, हम सब बलिदान ना सही पर देश कै लिए इस छोटा सा काम तो कर सकते हैं ना:

1. कचरा सड़क पर ना फैंकें।
2. सड़कों, दीवारों पे ना थूकें।
3. नोटों, दीवारों पर ना लिखें।
4. गाली देना छोड़ दें।
5. पानी लाइट बचाएँ।
6. एक पौधा लगाएँ।
7. ट्रेफिक रूल्स ना तोडें।
8. रोज़ माता पिता का आशीर्वाद लें।
9. लड़कियों की इज्जत करें।
10. एम्बुलेंस को रास्ता दें।
देश को नहीं, पहले खुद को बदलें। अगर समय हो तो आगे भेजे। 😊✅🍃

બોઝિલ

EXISTANCE ON THE EARTH IS STILL BOZIL ..

The Indian Express

Latest News, Breaking News Live, Current Headlines, India News Online

રઝળપાટ

- મારી કલમ ના પગલા

World Hindu Economic Forum

Making Society Prosperous

Suchetausa's Blog

Just another WordPress.com weblog

Guruprasad's Portal

Inspirational, Insightful, Informative..

Aksharnaad.com

Read, Listen, Feel Gujarati.

Ramani's blog

Education Health Hinduism India Lifestyle News Science

Jayshree Merchant

Gujarati Writer & Poet

churumuri

swalpa sihi, swalpa spicy

થીગડું

તૂટી-ફૂટી ગયેલા વિચારો પર કલમ થી માર્યું એક થીગડું.....

Swami Vivekananda

Let noble thoughts come to us from all sides, news too..

Acta Indica » The St Thomas In India History Swindle

Articles on the dubious Saint Thomas in India legend by noted historians, researchers, and journalists

2ndlook

Take a 2ndlook | Different Picture, Different Story

उत्तरापथ

तक्षशिला से मगध तक यात्रा एक संकल्प की . . .

Stories from the Heartland

One Californian's life as a Midwest transplant

Vicharak1's Weblog

My thoughts and useful articles from media

Follow

Get every new post delivered to your Inbox.

Join 1,779 other followers

%d bloggers like this: