Category Archives: anti-Modi

अनहोनी को होनी कर दे होनी को अनहोनी- from March 18, 2005 to June 8, 2016

अनहोनी को होनी कर दे होनी को अनहोनी.
 
March 18, 2005
U.S. Embassy Pulls India Official’s Visa
U.S. Embassy Revokes Visa of Top India State Official for Allegedly Violating Religious Freedom
 
The Associated Press
 
NEW DELHI Mar 18, 2005 — The U.S. Embassy on Friday denied a visa to the Hindu nationalist chief minister of India’s western Gujarat state over his role in 2002 religious riots. India slammed the decision, saying it showed a “lack of courtesy and sensitivity.”
 
Chief Minister Narendra Modi, a leader of India’s main opposition Bharatiya Janata Party, was denied a diplomatic visa to travel to the United States and his existing tourist/business visa was revoked, a U.S. embassy spokesman said.
 
March 18, 2005 10:00 PM
 
Representatives of 70 organizations meet under the leadership of Shri Sunil Nayak, President of IANA at his Ramada Inn for an emergency meeting to decide the fate of a previously well planned and publicized event of Modiji’s reception and talk at New York’s famous Madison Square Garden on March 20. I represented Vishwa Hindu Parishad of America.
 
It is decided unanimously to continue with the program and work out in haste a live video link with Gandhinagar for Modiji to address the audience in New York.
 
We all go home after 1:00 AM not to rest or sleep but to start an email campaign to let the community know that the program was “on” and to circulate a petition and letter campaign to the US President against denying a visa to a democratically elected leader of a state in Bharat.
 
March 19, 2005
 
Intense work by all volunteers across the country on 19th and 20th.
 
March 20, 2005 7:00 PM
 
The program is scheduled on the evening of March 20, a working day. Madison Square Garden is booked. Cost? $100,000 for a four-hour slot. A technical team has been working day and night with Gandhinagar counterparts to arrange a seamless and glitch free, live, interactive video feed.
 
In the evening, heavy rains drench New York and surrounding areas. Working day, maddening rush hour traffic and the rains do not deter NRIs who are all up in arms against US State department’s unfair decision partly taken under pressure from the anti-Hindu, anti-Modi secular (!) brigade and fundamentalist Christian lobby that was at the receiving end when Modi government clamped down on fraudulent Christian conversions.
 
People come by busloads from the neighboring states of New Jersey, Connecticut, and Pennsylvania. In no time the 4000 capacity auditorium is houseful.
 
A royal chair is at the center of the stage. It is not occupied. It symbolizes absence of Shri Narendra Modi. After some preliminaries, the giant screen comes alive and Modiji’s face appears on it. The crowd erupts in a frenzy with sustained applause for minutes.
 
Modiji is a study in equanimity. He is opposite of the crowd that is agitated and restless. He addresses the crowd with poise and dignity. Then Question-answer starts. I remember two of them vividly. (1) What is your reaction to the visa cancellation? (2) What do you see in the future?
 
Answer (1): I believe only in action, not in reaction.
Answer (2): I envision a day when Bharat would progress to a level where instead of us standing in line for an American visa, Americans will stand in line for a visa to Bharat.
 
Having known Narendrabhai from the early eighties as a Sangh Pracharak, and believing that he was guided by a divine power, I had argued then with disheartened colleagues and friends that one day, Narendrabhai would be the Prime Minister of Bharat.
 
Fast forward nine years to May 16, 2014
Narendrabhai leads BJP to an absolute majority in the national election, decimating the Congress.
 
May 26, 2014, 6:10 PM
 
Narendra Damodardas Modi takes oath as the Prime Minster of Bharat.
 
September 28, 2014 10:00 AM
 
Same Madison Square Garden where an audience of 4000 people looked at that empty chair reserved for Modiji on March 20, 2005, is filled to the brim with 19,000 NRIs. Hundreds of NRIs are looking at a giant live screen in the Times Square and still more than 10,000 are left without a ticket. Event? Prime Minister Narendra Modi is to address the Diaspora that had stood by him through thick and thin.
 
Fast forward—->
 
June 8, 2016, 11:00 AM
 
Location: US Capitol, Washington, DC
 
Audience: Joe Biden, Vice President, Paul Ryan, Speaker of the House; Mich McConnell, Majority Senate Leader; Nancy Pelosi, Minority House Leader and all Senators and Congressmen. It is the joint session of the U.S. Congress.
 
Speaker? Narendra Damodardas Modi, the Prime Minster of Bharat.
 
He speaks for almost one hour, in English. No written notes, no teleprompter. No Uh, Humm or any verbal clutches. No disjointed thoughts. He touches upon the history of the USA, shared values of the USA and Bharat, Influence of American constitution on B.R. Ambedkar, influence of Gandhiji on Martin Luther King, Jr., contribution of NRIs to the USA, Yoga’s popularity in the USA, climate change and carbon footprint, rural and agro-economy of Bharat, defense cooperation, terrorism from across the border, etc.
 
He spoke from a position of strength- He said, “cooperation and not domination”, a hint to the USA that Bharat will work with it on equal footing, not as a subservient junior partner. He ended with a quote from the famous poet Walt Whitman (1819-1892):
 
‘The constraints of past are behind us and foundations of future are firmly in place…The Orchestra have sufficiently tuned their instruments; the baton has given the signal. And there is a new symphony in play.’
 
He improvised it by adding: ‘Our relationship is primed for a momentous future. The constraints of the past are behind us.’
 
By my count, Modiji got 58 applauses and eight standing ovations in his one-hour speech.
 
Nanredrabhai, we are proud of you- from 2005 to 2016, what a journey it has been! I wish you Godspeed in making all your dreams a reality. You are not alone. I and millions are with you. Jay Hind!NaMo Swearing In photo_IMG_7358

आसमान में थूकने चले थे युगपुरुष | आसमान ने आज तक का सभी का थूका हुआ उन्ही पर पड़ा है |

Received fromWhatsApp-Author unkown.

आसमान में थूकने चले थे युगपुरुष | आसमान ने आज तक का सभी का थूका हुआ उन्ही पर पड़ा है |

स्वयं स्वघोषित फर्जी राजा हरिश्चंद्र जी ने एडमिशन लिया था जिंदल के मैनेजमेंट कोटे से | अरविन्द केजरीवाल का IIT- खड़गपुर में प्रवेश परीक्षा JEE के बजाय बिना नियमों का पालन किये जिंदल के सौजन्य से स्टाफ कोटे से हुआ था |

चला था प्रधानमंत्री की डिग्री के लिए RTI करने | उसी की डिग्री की असलियत पता चल गयी | बैक डोर से IIT में एडमिशन लेकर IIT करने का दम भरने वाला अरविंद फर्जीवाल केजरी बड़ा महारथी निकला | हिन्दुस्तान टाइम्स के एक रिपोर्टर ने RTI के जरिए से खुलासा हुआ कि 1985 में IIT में प्रवेश लेने वाले फर्जीवाल ने IITJEE परीक्षा नहीं दी थी | उसे एडमिशन दिलाया IIT खड़गपुर के तत्कालीन निदेशक प्रोफ़ेसर जी० एस० सान्याल और नवीन जिंदल के पिता के नज़दीकी संबंधों ने | दरअसल खड़गपुर में स्टाफ ने अपने आश्रितों के लिए प्रवेश के गैरकानूनी तरीके से रास्ता बना रखा था | जिसे सरकार ने गैरकानूनी मानते हुए 2005 में समाप्त कर दिया |

अरविन्द केजरीवाल के पिता गोविंद राम केजरीवाल 1985 में जिंदल स्टील में उच्च पद पर थे | उन्हीं ने जिंदल से कहलवा कर जी० एस० सान्याल के कोटे से IIT खड़गपुर में ऑल इंडिया रैंकिंग के न रहते हुए प्रवेश दिलाया था |

जो लोग फ़र्जीवाल के DNA की जाँच कराना चाहते थे, उनके लिए यह सूचना अत्यन्त महत्वपूर्ण है. बॉयोलॉजिकल फ़ादर जहाँ गोविंद राम केजरीवाल हैं वहीं IIIT खड़गपुर में प्रवेश लेते समय प्रोफ़ेसर जीएस सान्याल को बाप बना लिया था (केजरीवाल इतना नीचे गिर जाएगा कि बाप भी बदल लेगा ये तो सोचा भी न था) |

इसने किसी मेधावी छात्र का अधिकार मारा है | बड़ा भ्रष्टाचार भ्रष्टाचार करता रहता है न, सबसे बड़ा भ्रष्टाचारी यही है | क्योंकि जिसका जन्म ही भ्रष्टाचार से हुआ हो वो अच्छे आचरण कहाँ से ले आएगा | एक चोर को हर व्यक्ति में अपने जैसा चोर ही नजर आता है सबको संदेह की निगाहों से देखता है | मित्रों अब समझ में आया ये डिग्री डिग्री क्यों चिल्लाता रहता है, क्योंकि इसकी खुद की डिग्री ही फर्जी है |

इसके ऊपर दो-दो बाप रखने का भ्रष्टाचार का मामला बनता है

स्वघोषित नकली राजा हरिश्चंद्र अरविन्द केजरीवाल दिल्ली की जनता ने काम करने के लिए चुना है औकात से बढ़कर नौटंकी करने के लिए नहीं |

 

Game Plan- Create Dissention in each Group that Voted for Modi

From WahtsApp by Pankaj Ojha

मई 2014
मोदीजी pm बन गए
रिपोर्ट आई की
इस बार मोदी को
एक तरफ़ा वोट मिला
1) नोजवानों से ,
खासकर कॉलेज छात्रों से
2) कमजोर तबकों से,
खासकर दलितों से
3) हिन्दू समाज से,
खासकर मध्यम वर्ग से
4) गुजराती लोगों से,
खासकर पटेलों से
5) मुस्लिम समाज से,
खासकर गरीब मुस्लिम से
6) महिलाओं से,
खासकर धर्मप्रेमी महिलाओं से
7) व्यापारी वर्ग से,
ख़ासकर छोटे मझोले वर्ग से
8) देश के थिंकटैंक से,
खासकर बुद्धिजीवी वर्ग से
ऐसे कई कई वर्गों ने अपनी
पुश्तैनी राजनीतिक निष्ठां
को दरकिनार कर मोदी को
वोट दिया। कश्मीर से
कन्याकुमारी तक यही देखने में
आया।
हर राजनीतिक दल इसे महसूस कर
पाया,
पुरे भारतवर्ष में।
इसका तोड़ निकाला गया।
नतीजा आज आपके सामने है।
हर उस वर्ग को सबसे पहले
चिन्हित किया गया जिसने
मोदी को एक तरफ़ा वोट
दिया। फिर उस वर्ग की
“दुखती नस” मार्क की गई और
खेल शुरू हुआ।
बेहद सटीक और बारीकी से
चुन चुन कर इन वर्गों को टारगेट
करना शुरू हुआ।
किरदार लिखे गए और
हर वर्ग को एक टार्गेटेड
किरदार दिया गया।
उसकी टाईमिंग तय की गई।
और अपने हाथ में रिमोट रखा
प्रमुख विपक्षी दल ने ।
भांड मीडिया इसमें अहम रोल
अदा करने वाला था।
मकसद इन सबका एक था-
हर वर्ग को तोडना,
हर वर्ग को जहर से भरना,
हर वर्ग को छिन्न भिन्न करकें
रखना ,
ताकि फिर वो भविष्य में,
कभी एक होकर,
मोदी को वोट ना दे
अब आप खुद इस बड़े से खेल को
समझिये,
इनकी परफेक्ट टाइमिंग को
समझिये,
इनके वेल प्लेसड किरदारों को
देखिये,
बेहद खूबसूरत स्क्रिप्ट को
पढ़िए। हर बयान की एक परफेक्ट
टाइमिंग
स्पष्ट रखी दिखेगी।
1) नोजवानों के लिए
JNU वाला उमर खालिद
किरदार
2) दलित वर्ग के लिए
रोहित वेमुला वाला किरदार
3) हिन्दू वर्ग के लिए
फ़िल्मी खान वाला किरदार
4) गुजरती पटेलों के लिए
हार्दिक पटेल वाला किरदार
5) मुस्लिमो के लिए
अख़लाक़ वाला किरदार
6) महिलाओं के लिए
शनि शिंगापुनकर वाली
किरदार
7) व्यापारी वर्ग के लिए
GST वाला किरदार
8) बुद्धिजीवी वर्ग के लिए
असहिष्णडू वाला किरदार
मजे और आश्चर्य की बात यह की
इसमें नया कुछ भी नही है। वर्षो
से समाज में चली आ रही
बुराइयों को ही आधार बनाया
गया है।
सिर्फ मोहरे बदल कर
नए वो किरदार लाये गए हैं
जो जवान है
जोश से भरपूर हैं।
ये तो बानगी है उन किरदारों
की अब तक सामने आ गए हैं।
भविष्य में और भी सामने आएंगे ,
अपनी परफेक्ट
स्क्रिप्ट और टाइमिंग के साथ।
आपको ,
हमको ,
हिंदुस्तान,
को तोड़ने की साजिश के साथ।
सजग रहिएगा
होश से काम लीजिएगा
अपने विवेक को
मरने न दीजियेगा
अपनी एकता बनाये रखना
किसी भी उकसावे में न फँसना
हम “अनेक” थे
हम “अनेक” हैं
हम “अनेक” ही रहेंगे
अपनी इसी
“अनेकता में एकता”
में हमारी ताकत और
सुनहरा भविष्य निहित है
हमारी सोच और कल्पना से भी
आगे/बड़े ,
इस गेमप्लान की हवा को,
सिर्फ हमारी
शालीन ,गरिमापूर्ण,
मजबूत एकता से ही निकला जा
सकता है।
धीरज संयम रखकर,
मोदीजी को आपका और आपके
बच्चों का
सुनहरा भविष्य बनाने का
मौका दीजिये
क्योंकि वे अब तक की हर
अग्निपरीक्षा में सफल हुए हैं

My comments: BEWARE of the Wolves. Stay United. 2019 battle has already started. Take this message to every home and also to BJP leaders in your area.

An Open Letter to Rahul Gandhi

Source Unknown. WhatsApp by Hiren Megha

🙏कोई पहुंचा दो मेरा ये ख़त 🙏
प्रति,
राहुल गांधी
सांसद/ महासचिव
भारतीय राष्ट्रीय कांग्रेस

राहुल जी, आज आप का #JNU में दिया भाषण सुना और मजबूर हुआ ये पत्र लिखने को।आज आपने महज दो हजार छात्रो के सामने ही भाषण नहीं दिया बल्कि आपने छात्र के लिबास में वहां घूम रहे राष्ट्र विरोधी ताकतों को भी सम्बल प्रदान कर दिया कि हिंदुस्तान मुर्दाबाद और पाकिस्तान जिंदाबाद के नारे लगाने पर उस राजनैतिक दल को कोई आपत्ति नहीं है जिसने आजादी के बाद 60 सालो तक इस देश की कमान संभाली है और भविष्य में भी इस देश की कमान सँभालने को अपना स्वाभाविक हक़ मानती है।

राहुल,आपने #JNU में कहा कि छात्रो की आवाज दबाने वाला सबसे बड़ा राष्ट्रद्रोही है। आपका मतलब हिंदुस्तान की न्यायपालिका ने आप की ही सरकार के दौरान जिस आतंकवादी अफजल गुरु को फाँसी दी थी उसको नाजायज मान कर उसे शहीद का दर्जा देने वाले राष्ट्रद्रोही पर अगर सरकार कार्यवाही करती है तो क्या वो सरकार राष्ट्रद्रोही सरकार है।

#Rahulgandhi जी आप ने कहा कि युवा अपनी बात कहते है तो सरकार उन्हें देशद्रोही कहती है। आप का मतलब है कि “कितने अफजल तुम मारोगो-हर घर से अफजल निकलेगा” के नारे लगाने वाले और… “हमको चाहिए आजादी” के नारे लगाने वालो को सरकार ताम्रपत्र से सम्मानित करना था ?

रोलिंस कालेज से स्नातक और केम्ब्रिज विश्वविद्यालय से मिली एम्फिल की डिग्री आप को किस पढाई पर मिली मैं ये नही जानता पर इतना जरूर लगता है कि आज का आप का भाषण न आपकी दादी स्व.इंदिरा गांधी को पसंद आया होगा और न आप के पिता स्व.राजीव गांधी को।उन्हें भी आज शायद यही लगा होगा की उन्हें आप को हिंदुस्तान के किसी सरकारी स्कूल में पढ़ाना था जहाँ और कुछ पढ़ाया जाय या न पढ़ाया जाय… राष्ट्रभक्ति के भाव और उसका प्रकटीकरण जरूर सिखाया जाता है।

आप मेरी इस समीक्षा को मेरे भाजपाई होंने से जोड़ कर प्लीज ख़ारिज मत कीजियेगा। हाँ मैं हूँ भाजपाई….#BJP …। पर भाजपाई होने से पहले एक हिंदुस्तानी हूँ और आप ने आज मेरे जैसे करोडो हिन्दुस्तानियो का दिल दुखाया है।हिंदुस्तान को गाली और पाकिस्तान के लिए दुआ मांगने वालो के साथ आप का खड़ा होना वाकई एक सच्चा हिंदुस्तानी होने की वजह से शर्म से आज मेरा सर झुक गया।

आज आपके एक भाषण ने वो कर दिया जो पाकिस्तान की पूरी आईएसआई और सैकड़ो हाफिज सईद नहीं कर पाये…। वो है हम हिंदुस्तानियो का मनोबल तोड़ना…देश के सैनिको के मन में इस प्रश्न को पैदा करना कि वो अपनी जान की बाजी किसके लिए और क्यों लगा रहे है..?

मैंने सीताराम येचुरी को कोई पत्र नहीं लिखा क्यों कि वो वही कह रहे है जिसकी मुझे उनसे उम्मीद थी…पर आप से इस भाषण की उम्मीद नहीं थी मुझे।#sitaramyechury

राहुल जी..आप नरेंद्र मोदी से नफरत कीजिये वो आप का हक़ है पर..देश से आप प्यार करेंगे ये तो उम्मीद हम रख सकते है न…..आप भारतीय जनता पार्टी को खूब भला बुरा बोलिये…वो भी आप का हक़ है मगर…राहुल जी… देश को भला बुरा बोलने वालो के साथ आप नहीं खड़े होंगे ये उम्मीद तो हम रख ही सकते है न…फिर क्यों…आखिर क्यों..??

राहुल जी #JNU मामले में आप दो दिन चुप रहे तो लगा कि आप भी भारत जिंदाबाद करने वालो के साथ है…मगर जब आपने बोला तो अफसोस… आपने देश को आतंकवाद के मामले में दो भाग में बाँट दिया…।

भारत की विश्व भर में आतंकवाद के मुद्दे पर छेड़ी गई लड़ाई को घरेलू मोर्चे पर ही आपने कमजोर कर दिया।

जरा सोच के देखियेगा कि आप के एक भाषण ने कश्मीर मुद्दे पर भारत को कितनी क्षति पहुचाई है ?

इशरत जहाँ आतंकवादी थी ये हेडली की गवाही से एक बार फिर साबित हुआ है। अब आप अपनी और अपनी पार्टी के पिछले बयानों और क्रियाकलापो पर चिंतन कीजिए। नफरत के हद तक मोदी विरोध की तीब्र इच्छा और प्रयास ने आप को देश द्रोहियो के कवच-कुंडल की तरह तो नहीं खड़ा कर दिया है…? चिंतन कीजिये

मुझे आप की राष्ट्रभक्ति पे प्रश्नचिन्ह लगाने का कोई हक़ नहीं है और न मैं कोई प्रश्नचिन्ह लगा रहा हूँ…। मुझे आपकी राष्ट्रभक्ति के प्रकटीकरण के उस तरीके पर एतराज है जो दुश्मनो का मनोबल बढाये और राष्ट्रभक्तो का मनोबल तोड़े। ये तब भी होता है जब देश का प्रधानमंत्री विश्व मंच पर आतंकवाद के खात्मे का नारा दे कर पूरे विश्व को एक करता है और उसके घर लौटने से पहले आप उसकी छिछालेदर में जुट जाते है।

दिग्विजय सिंह की क्लास में जहाँ आतंकवादी ओसामा बिन लादेन को “ओसामा जी” कह कर बुलाने की शिक्षा दी जाए वो क्लास ठीक नहीं है।

राहुल जी अभी एक न्यूज़ चॅनल ने दिल्ली में सर्वे कराया जिसमे उसने आप की लोकप्रियता सात प्रतिशत बताई।मुझे लगता है कि यह आंकड़ा दिल्ली में आपकी पार्टी को मिलने वाले व्होट प्रतिशत से भी बेहद कम है।आप और आपकी पार्टी ने इस सर्वे को नकारा नहीं है। तो अगर ये सर्वे सही है तो भाजपाई हो कर भी मेरी सलाह है कि आप अपने काम करने का बाकी तरीका बदले या न बदले मगर अपनी राष्ट्रभक्ति के प्रस्तुतिकरण के तरीके पर आत्मचिंतन अवश्य कीजिये।क्यों कि अगर आपके इस प्रगटीकरण और भाषण से हाफिज सईद और जकी उर रहमान लखवी पाकिस्तान में बैठ कर खुश हो रहे है तो कही न कही कुछ गड़बड़ जरूर है…।

और कुछ नहीं तो अपने भाषण लिखने वाले को तो आज ही बदल डालिये.. प्लीज ….

भवदीय
एक राष्ट्रभक्त

Dear Mr. Shourie (from Gaurang Vaishnav)

Dear Dr. Arun Shourie:

Namaste.  A few days back you came down hard on Modi government. You made an uncharitable remark that “The Modi government believes that managing economy means “managing the headlines” and that people have started recalling the days of former Prime Minister Manmohan Singh.” I didn’t like it but you are an expert on the subject and I am not, so I swallowed it. You further said, “The way to characterize policies of the government is – Congress plus a cow. Policies are the same.”  http://m.timesofindia.com/india/This-government-is-Congress-plus-a-cow-Arun-Shourie-says/articleshow/49544316.cms?utm_source=facebook.com&utm_medium=referral&utm_campaign=TOI

That was a cheap pot shot and insulting to Hindu sensitivities. Yet, I let it ride thinking that even the best of the people lose balance sometimes in anger and say things that they later regret.

People have surmised that you are frustrated because you were not given a ministerial position in the new government, not even a place in the Niti Ayog. I didn’t agree with that assessment. I didn’t think you were that petty and hunkering after name and fame.

Having known your contribution to BJP and your scholarly and philosophical mind, having read your books, I have held you in high regards for decades, so I did not want to label you as another Modi hater just because of that one interview.

Then came another of your interviews with NDTV. It opened my eyes and changed my perception.  I want to pick only a few points from that interview and tell you that Mr. Shourie, you are wrong.

http://www.indiatvnews.com/politics/national/pm-modi-keeping-silent-just-to-win-bihar-elections-arun-shourie-33514.html

(1) “Prime Minister Narendra Modi is deliberately maintaining silence on incidents like Dadri lynching while his ministerial and party colleagues kept the issue alive merely to win Bihar elections.”. Maybe he is and that is a prudent way; if you had the good of the country at the heart and didn’t want Congress or its proxy to rear its head again, you would have kept quiet too. And why should he comment? Just because it was a Muslim death? Why did you not mention that he should make a statement also on the murder of Prashant Poojary, a Hindu by Muslims? So you are also falling in media trap of labeling Modiji as a PM of Hindus only.

(2) You cited a Pakistani analyst to say that “while the neighboring country was trying to get out of the pit, India was slowly going down its way.” So now, to you suddenly an analyst from Pakistan carries more weight? And is Pakistan really trying to come out of the pit? It doesn’t look like looking at what they are doing in Kashmir.

(3) You have said “the writers, authors and artists were conscience-keepers of the country and their motives cannot be questioned.”  Ha, ha, ha! So where was their conscience in 1984 Sikh genocide, in 1989 when Pundits in Kashmir were massacred, in 2002 when 58 Hindus were burnt alive at Godhra in a railway coach when Professor Joseph’s hands were cut by the Jehadis in Kerala? So these guys’ motives cannot be questioned but Modi’s can be?

(4) ” Praising scientists like P M Bhargava and Infosys founder N R Narayana Murthy, who have expressed concern over these incidents, you questioned how these people can be called rabid, a term used by Arun Jaitley.”  One only needs to do a Google search on Bhargava to see where his ideological loyalties lie.  Bhargava has been supporting AAP from the very beginning and has leftist, pro-Naxal leanings. He is not a neutral, ‘oh, so ever gentle soul.’ Mr. Murthy is a Ford Foundation Trustee. Do we need to know more?

(5) ” These people have contributed immensely to the country and those who attacked them have not read a book in the last 20 years. Those who cannot write two paragraphs are sitting in judgement over writers.”  This is so absurd an argument that it takes the cake. If we were sitting in judgement of their literary work, the argument would make sense; here we are judging their action of Award Vapasi and political motive behind it, which doesn’t require literary skills but common sense.

Your strident support of politically motivated writers and artists’ return of awards makes it crystal clear that in the last innings of your life, you have thrown away your wicket. You are so enamored with your righteousness that you have lost all sense of proportion. Up until now, I thought that Advaniji was the only icon whom I had held in high esteem and who had failed BJP and the nation at the crucial juncture. Now I know that he is in good (!) company.

I am one of 1.25 billion Bharatiyas. Though I happen to reside away from Bharat, my heart beats for Bharat. I blog, twit and use Facebook. I am not a scholar; I have not written incisive books; I have not been a minister; I have not been a darling of think tanks and conclaves; I am not a speaker; hey, I am not even a member of BJP. Yet, I dare say that Shourie Ji you have lost it. All your lifelong contributions have come to a naught because you have decided to become a tool in the hands of Adharma, i.e., in the hands of anti-Modi, anti-Hindu, and to an extent, anti-Bharat media. It is no different than Bhishma or Dronacharya deciding to side with the Kauravas.

Finally, I can write “more than two paragraphs” and I have read 50 or so book in last twenty years.

May you find peace within.

Gaurang G. Vaishnav

Edison, New Jersey, USA

(facebook: <vicharak1>, twitter: @vicharak1)

Hildaraja's Blog

about my reactions and responses to men and affairs

બોઝિલ

EXISTANCE ON THE EARTH IS STILL BOZIL ..

રઝળપાટ

- મારી કલમ ના પગલા

World Hindu Economic Forum

Making Society Prosperous

Suchetausa's Blog

Just another WordPress.com weblog

Guruprasad's Portal

Inspirational, Insightful, Informative..

Aksharnaad.com

Read, Listen, Feel Gujarati.

Ramani's blog

Health Mantras Hinduism Research Global Hinduism Indian History Science Vedic Texts

Jayshree Merchant

Gujarati Writer & Poet

churumuri

swalpa sihi, swalpa spicy

થીગડું

તૂટી-ફૂટી ગયેલા વિચારો પર કલમ થી માર્યું એક થીગડું.....

Swami Vivekananda

Let noble thoughts come to us from all sides, news too..

Acta Indica › The St Thomas In India History Swindle

Articles on the dubious Saint Thomas in India legend by noted historians, researchers, and journalists

2ndlook

Take a 2ndlook | Different Picture, Different Story

उत्तरापथ

तक्षशिला से मगध तक यात्रा एक संकल्प की . . .

Stories from the Heartland

One Californian's life as a Midwest transplant

Vicharak1's Weblog

My thoughts and useful articles from media

%d bloggers like this: