Category Archives: Uncategorized

मधर्स डे- दुसरो को नीचा दिखाने से आप महान नहीं बन सकते।

A post circulating in Bharat about Mother’s Day and my response.  – Gaurang Vaishnav

विदेशो में एक महिला 2 या तीन शादी करती है और पुरुष भी। इसलिए उनकी संताने 14 पंद्रह साल के होने के बाद अलग रहने लगते हैऔर उनके जैविकमाता पिता अपनी अपनी अलग अलग जिंदगी जीते है।इसलिए बच्चे साल में एक बार अपने माता या पिता से मिलने जाते है क्यों कि
उनके माता पिता तो साथ रहते * *नहीं है इसलिए माता को मिलने का अलग दिन निर्धरित किया है *और उसी तरह पिता से मिलने का अलग दिन।
जो मदर्स डे और फादर्स डे के नाम से जाने जाते है।
भारत में हम बच्चे अपने माता और पिता के साथ ही रहते है और वो दोनों भी पूरी जिंदगी अपने बच्चों के साथ रहते है।
इसलिये यहाँ हर दिन माता पिता का है।

उन्हें साल के एक दिन की जरुरत नहीं है।
माँ को याद करने के लिए किसी “मदर डे” की जरुरत नहीं , हिन्दू धर्म में तो माँ के कदमो में ही स्वर्ग बताया गया है।
यह मदर डे के चोचले तो उनके लिए है जो साल में एक बार अपनी माँ को याद करने का बहाना।

==================

Response:

दुसरो को नीचा दिखाने से आप महान नहीं बन सकते।
यह बात इतनी सरल नहीं है जैसे की इस पोस्ट में बताया गया है| पश्चिम में हर व्यक्ति एक से ज्यादा बार विवाह नहीं करता| संतान भी उच्च महाविद्यालय का शिक्षण संपूर्ण होने पर ही अपना घर बनाते है; जो संतान उच्च महाविद्यालय नहीं जाते, वो आजीविका का प्रबंध होने के बाद ही विभक्त होते हैं| यह एक सम्पूर्णत: मुर्ख निवेदन है की Mother’s Day और Father’s Day पर ही संतान अपने माता या पिता को मिलने जाते है| औसत: विवाह होने के पश्चात भी संतान और उनका कुंटुंब माँ-बाप को मिलने के लिए समय समय पर आते ही रहते हैं| कई घरो में संतान विभक्त होने के बाद भी उनका शयन कक्ष उनके लिए ही आरक्षित रखा जाता है और जब भी वो घर आते है तब उनका निवास वही होता है| मैं ऐसे परिवारों को जानता हूँ जहां वृद्ध या अपंग माता/पिता की सेवा के लिये पुत्री अविवाहित रही हो|
 
यह बात नहीं कि यहाँ के समाज में कौटुंबिक समस्या नहीं हैं| यहाँ की समस्याऐं भारत की तुलना में अधिक गंभीर है पर हमारे समाज का समाधान हम उन पर थोप नहीं सकते क्योंकि दोनों समाज की अवधारणा में मुलत: भिन्नता है| पश्चिम का समाज अधिकाधिक व्यक्ति-स्वातंत्र्य को महत्व देता है और पूर्व की संस्कृति संयुक्त कुंटुंब को प्राधान्य देता है जिस में व्यक्ति-स्वातंत्र्य को गौण माना गया है|
 
अमेरिका में ४६ वर्ष के निवास के पश्चात मैं इतना शीखा हुं कि कोई भी समाज व्यवस्था से परे रह कर या उसे जिये बिना उसके लिये सामान्यीकरण (generalization) करना नितांत बालोचित (childish) है| 
 
मुझे बड़ा दुःख होता है जब मैं यह देखता हूँ कि बहुधा हमारा समाज अन्य देश, अन्य धर्म या अन्य समाज व्यवस्था को किसी माहिती या अभ्यास और चितन के बिना ही नीचा दिखाने मैं विकृत आनंद लेता है और ऐसा करने से ही भारत की सर्वश्रेष्ठता प्रतिपादित हो जाती है ऐसे भ्रम में राचते है|  
 
यह सच बात है की भारत को पश्चिम के रीत रिवाज और उत्सव-दिनो को अंधतापूर्वक अनुकरण करने की कोई आवश्यकता नहीं है पर यह भी कटु सत्य है कि  social media में भारत के और हिन्दू संस्कृति के अथाग गुणगान होने के  पश्चात भी लाखो माँ-बाप या तो वृद्धाश्रम में है या उनके संतान उनके क्षेमकुशल की चिंता नहीं करते|  
 
वैश्विकरण की विपरीत असर तो हो के ही रहेगी| यह हमारा दुर्भाग्य है की हम अभी भी पश्चिम से अनुशाशन, समय का सन्मान, वाहन चलाने में आत्मसंयम, ग्राहक के प्रति संवेदना, स्वछता, अन्य की असुविधा का विचार, मातृभाषा का गौरव और दैनिक व्यवहार में उपयोग,एक राष्ट्र भावना, लोकशाही का संवर्धन आदि अच्छे गुण हमारे वैयक्तिक और सामाजिक जीवन में आत्मसात करना नहीं चाहते हैं पर कॉलेज डे, चोकोलेट डे, रोज़ डे, वेलेंटाइन डे, मर्स डे, फाधर्स  डे, सांता क्लॉस, क्रिस्टमस और आंग्ल नव वर्ष का उत्सव, विवाह के पहले ही कौमार्यभंग, समलैंगिकता, नशीले पदार्थों का सेवन, इत्यादि को बिना सोचे समझे अपना रहे हैं और इस में गौरव भी लेते है|  अस्तु! 
 
गौरांग वैष्णव 

Ujjal Dosanjh: Dear Donald Trump, you are an illegitimate President-elect;

http://indianexpress.com/article/blogs/dear-donald-trump-you-are-an-illegitimate-president-elect-you-will-be-a-less-than-legitimate-president-4472380/

Dear Donald Trump, you are an illegitimate President-elect; you will be a less than legitimate President

By Ujal Dosanjh

(Dosanjh is former Premier of British Columbia, and former Canadian Minister of Health.)

Dear Donald, you and your surrogates have been noxiously complaining that the US Democrats are raising the bogey of Russian hacking into the Democratic National Committee (DNC) to delegitimise your electoral victory and undermine your presidency. I am a citizen of the increasingly smaller world: A Canadian citizen; and by heritage an Indian of India. I am baffled how one undermines something already illegitimate. I thought I should let you know well before your swearing in that as far as many Americans and people across the world are concerned your Presidency is void ab initio. You are an illegitimate President-Elect; and you will be an illegitimate President. Stop complaining about it. Just grin and bear it.

And you may ask why?

Where do you want me to start?

For beginners, as one who had sought to undermine the Presidency of a duly elected Barack Obama by leading the most disgusting chorus of the Birther Lie against the first black president in the history of the USA, you don’t deserve to be the President, and that too as the standard bearer of the party of the slayer and abolisher of slavery, Abraham Lincoln.

You campaigned on “draining the swamp” of the rich and powerful in Washington. That appears to have been another one of your grotesque lies because your proposed cabinet is full of billionaires and multimillionaires quite at home, and used to swimming, in the swamp of which they are an integral part.

Your electoral college victory was founded upon a campaign of hate and racism against Muslims and Mexicans that appealed to the latent racism of quite a significant section of white Americans still undoubtedly harbouring racism, fear of the other and economic anxieties afflicting them leading them to buy your snake oil of how everything will be fine when you ban all Muslims from entering the country, set up a mandatory registry for American Muslims, instantly deport 11 million Mexicans from the USA back into Mexico and build a wall on the border with Mexico. You lied to the American people that you will make Mexico pay for the wall which you are now asking Americans to pay for. And we are happy that it will be less than a wall; but still another lie.

To make matters worse you have told scores of other monstrous, consequential and inconsequential lies in your lifetime and in the campaign. So much so that it compelled James Warren writing in Vanity Fair to label you “the least honest politician alive”. And even after getting elected you haven’t stopped lengthening the already too long a screed of lies.
I confess Hillary Clinton was not the greatest opponent you could have faced. She had excessive baggage from years of being in the public and political domains: the history the Clinton Foundation, her own emails from her time as Secretary of State and much more. According to the report of the US intelligence, in came the Russians with the clear intent to sow distrust in the US election process, hurt the Clinton candidacy and help yours, their preferred candidate. The Russians hacked the DNC and other Clinton related emails and conspired with the Wikileaks to strategically release such materials during the campaign. The drip-drip of the Russian hacked and Wikileaks released material effectively damaged Clinton’s chances of beating you; Russia put its thumb on the scale to help you, their favourite candidate; you became Russia’s “Manchurian” candidate. Russia didn’t interfere with the voting machines or the tallying of the votes. But it certainly did interfere with and influence the election in your favour. With Russia’s clear and covert help, you defeated Clinton.

There are as yet unsubstantiated claims that the Russians possess a dossier of compromising personal and other information on you with which, if true, you could be subject to blackmail endangering the national security of the United States of America. The intelligence chiefs felt the information, though unproven, was germane enough to their duty to protect USA and its government that they briefed President Obama and you on it. The briefing material was leaked but according to the intelligence chiefs not by them or their organisations. You had a hissy fit during what the Guardian described as a train wreck of a press conference, and compared your intelligence chiefs to the Nazis. Such irresponsible conduct is more proof that you aren’t fit to be the President of the most powerful country on earth.

Mind you, Russia isn’t unique in the world in trying to subvert other nation’s politics and governments. American governments have been no international angels. They have encouraged countless coups and revolts and interfered in elections all over the world. The government s your country helped come to power in other countries were equally illegitimate, be it the Shah of Iran, Ferdinand Marcos in the Philippines or Augusto Pinochet in Chile.

Russian interference and influence in the US election in your favour, more than the lies and hate you spewed, has certainly meant the demise of your presidency’s legitimacy at its very beginning. Your campaign of lies, hate and racism along with the well documented help you received from the Russians in damaging your opponent has made yours an illegitimate presidency.

But you, your supporters and surrogates argue the fact that you have been elected should be the end of discussion; perhaps so, particularly because the American electorate has never been considered to be well informed and aware anyway. As the late Gore Vidal once lamented, “Half of the Americans have never read a newspaper. Half never voted for President. One hopes it is the same half”.

So the world is the poorer for having to live with your less than legitimate Presidency. Do us a favour: Just grin and bear it.

The views expressed by the author are personal. Dosanjh is former Premier of British Columbia, and former Canadian Minister of Health.

 

 

Harry Reid Exposes FBI Director’s Partisan Move

 

 

harry-reid_letter-to-director-comey-10_30_2016

A Hoarding on Mehsana Hwy, Gujarat- welcoming (?) Kejriwal

namk-hindustan-ka-khata-haiwhatsapp-image-2016-10-14-at-1-25-27-pm

Women in presence of Trump

trumo-women_whatsapp-image-2016-10-11-at-8-53-01-am

GIBV_LOGO_07262016

 

Transforming India for Global Leadership  through Rural Empowerment                                       & Citizen Awareness Campaign

PO box 245, Iselin, NJ 08830   570-884-4428  http://www.gibv.org                                                      Facebook: /Gibvikas Twitter: @GIBVikas _________________________________________________________________

 ANNUAL MEETING at The Crowne Plaza Hotel, Newton, MA

July 30 & 31, 2016

                                                        Saturday, July 30, 2016

8:00 AM to 8:45 AM                                       Breakfast

Session 1      (09:00 AM to 10:30 AM)

 

09:00 AM to 09:05 AM  Welcome                                                             Pawan Roy

09:05 Am to 09:20 AM   Vision Mission, Goals and Updates           Kanchan Banerjee

09:30 AM to 10:40 AM     Interactive, online session with Networking partners in Bharat

(Hiral Mehta, All India Rural Empowerment Program, Amdavad; Urvish Kantharia, GIBV, Bharat, Amdavad; Srikanth, Karnataka Village Development, Bangalaru)

10:40 AM to 10:50 AM  Break

Session 2        (10:45 AM to 12:15 PM)

 

10:50 AM to 11:10 AM  Our role in USA                                 Girish Gandhi

11:10 AM to 11:30 AM  Our role in Bharat                            Gaurang Vaishnav

11:30 AM to 12:15 PM   Scope and Opportunities working with other organizations in Bharat

Dr. Mahesh Mehta

12:15 PM to 01:15 PM                                   Lunch

 

 

                                                                         Session 3        (01:30 PM to 03:30 PM)

 

01:30 PM to 03:30 PM   Work in the USA- Details, What, how to

(Moderator: Balaguru Teertha, Kunal Shah)

        • Chapters & Volunteers                  Avanish Raj
        • Membership & Fund-Raising      Girish Gandhi
        • Media & PR                                        Somanjana Chatterjee
        • Communication, Internal & External        Sonali Dave
        • Social Media                                      Achalesh Amar

 

03:30 PM to 4:00 PM                                      Tea Break

 

                                                                                Session 4        (04:00 PM to 05:15 PM)

 

04:00 PM to 04:15 PM                   Demonstrating Website, Facebook, Twitter, YouTube

04:15 PM to 05:15 PM                   Create Task Lists               Kanchan Banerjee

 

06:00 PM to 09:00 PM                   Event with invited Guests

(Pawan Roy, Mahesh Mehta, Kanchan Banerjee, Kunal Shah, Girish Gandhi)

06:00 PM to 06:45 PM   Reception

06:45 PM to 08:15 PM   Presentation & discussion

08:15 PM to 09:15 PM   Dinner

 

                                                                           Sunday, July 31, 2016

 

8:00 AM to 8:45 AM                                       Breakfast

 

Session 5      (09:00 AM to 10:30 AM)

 

09:00 AM to 09:15 AM                 Global Indian Business Council (GIBC)     Dhirendra Shah

09:15 AM to 09:55 AM                  Working in Bharat- Village matrix              Gaurang Vaishnav

10:00 AM to 11:00 AM                  Interactive session with Networking partners in Bharat

(Dr. Ajay Mehta, Bhopal; Shobhit Mathur, Vision India Foundation,

Delhi; Manish Manjul, Lead India 2020, Delhi)

 

11:10 AM to 11:45 AM                  Action Items, Assignments        Kanchan Banerjee,                                                                                                                                             Sneha Mehta

Next meeting Dates and Place                    Girish Gandhi

11:45 PM to 12:00 PM                   Concluding Remarks                                       Dr. Anju Preet

 

=== ==== ===== ===== ====== ====== ====== ====== =======  =======  ========

 

 

Syrian Crisis Explained (!)

From WhatsApp

If in case it was all too confusing for you, here’s a summary:

President Assad (who is bad) is a nasty guy who got so nasty his people rebelled and the Rebels (who are good) started winning (hurrah!).

But then some of the rebels turned a bit nasty and are now called Islamic State (who are definitely bad!) while some continued to support democracy (who are still good.)

So the Americans (who are good ) started bombing Islamic State (who are bad ) and giving arms to the Syrian Rebels (who are good ) so they could fight Assad (who is still bad) which was good.

There is a breakaway state in the north run by the Kurds who want to fight IS (which is good) but the Turkish authorities think they are bad, so the U.S. says they are bad while secretly thinking they’re good and giving them guns to fight IS (which is good) but that is another matter.

Getting back to Syria.

So President Putin (who is bad because he invaded Crimea and the Ukraine and killed lots of folks, including that nice Russian man in London with polonium poisoned sushi, has decided to back Assad (who is still bad) by attacking IS (who are also bad ) which is sort of a good thing (!?).

But Putin (still bad) thinks the Syrian Rebels (who are good) are also bad, and so he bombs them too, much to the annoyance of the Americans (who are good) who are busy backing and arming the rebels (who are also good).

Now Iran (who used to be bad, but now they have agreed not to build any nuclear weapons with which to bomb Israel are now good) are going to provide ground troops to support Assad (still bad) as are the Russians (bad) who now have ground troops and aircraft in Syria.

So a Coalition of Assad (still bad) Putin (extra bad) and the Iranians (good, but in a bad sort of way) are going to attack IS (who are bad which is good, but also the Syrian Rebels (who are good) which is bad.

Now the British (obviously good, except that silly anti-Semite who leads the Labor Party, Mr. Corbyn in the corduroy jacket, who is bad) and the Americans (also good) cannot attack Assad (still bad) for fear of upsetting Putin (bad) and Iran (good/bad) and now they have to accept that Assad might not be that bad after all compared to IS (super bad — see Paris, November 2015).

So Assad (bad) is now probably good, being better than IS and, because Putin and Iran are also fighting IS, that may now make them good. America (still good) will find it hard to arm a group of rebels being attacked by the Russians for fear of upsetting Mr. Putin (now good) and that nice mad Ayatollah in Iran (also good?) and so they may be forced to say that the Rebels are now bad, or at the very least abandon them to their fate. This will lead most of them to flee to Turkey and on to Europe or join IS (still the only consistently bad).

To Sunni Muslims an attack by Shia Muslims (Assad and Iran) backed by Russians will be seen as something of a Holy War. Therefore, the ranks of IS will now be seen by the Sunnis as the only Jihadis fighting in the Holy War and hence many Muslims will now see IS as good (duh).

Sunni Muslims will also see the lack of action by Britain and America in support of their Sunni rebel brothers as something of a betrayal (might have a point?) and hence we will be seen as bad.

So now we have America (now bad) and Britain (also bad) providing limited support to Sunni Rebels (bad ) many of whom are looking to IS (good/bad ) for support against Assad (now good) who, along with Iran (also good) and Putin (now, straining credulity, good ) are attempting to retake the country Assad used to run before all this started.

Got it?

हेमंत करकरे क्या वास्तव में शहीद हैं….?

FromWhatsApp:

हेमंत करकरे क्या वास्तव में शहीद हैं…?
बात निकलेगी तो फिर दूर तलक जाएगी…

26 नवंबर 2008 की रात मुंबई की गिरगाव चौपाटी रोड पर रुकी कार के भीतर अत्याधुनिक आग्नेयास्त्रों से लैस वो 2 खूंख्वार आतंकी बैठे थे जो उस रात मुंबई की सडकों पर खून की होली खेलने निकले थे और पिछले 2 घंटों में ही मुंबई CST सहित कई स्थानों पर लगभग 60-70 निर्दोष नागरिकों को मौत के घाट उतार चुके थे.
गिरगांव चौपाटी पर उस रात उस कार का रास्ता रोक कर खड़ी हुई मुंबई पुलिस की टीम के सदस्य असिस्टेंट सब इन्स्पेक्टर तुकाराम ओम्बले इस स्थिति को अच्छी तरह जान समझ रहे थे. हालांकि उनके हाथ में पिस्तौल या रिवॉल्वर के बजाय केवल लाठी थी और अच्छी या ख़राब बुलेटप्रूफ जैकेट तो छोडिए, उनके बदन पर बुलेटप्रूफ जैकेट ही नहीं थी. लेकिन इसके बावजूद तुकाराम ओम्बले ने अपने कदम कार की तरफ और अपने हाथ उन आतंकियों के गिरेबान की तरफ बढ़ा दिए थे. जवाब में आतंकियों की बंदूकों से बरसी गोलियों से छलनी होने के बावजूद उन आतंकियों की कार में घुस गए तुकाराम ओम्बले ने उनमें से एक आतंकी का गिरेबान तबतक नहीं छोड़ा था जबतक उसको कार से बाहर घसीटकर सड़क पर पटक नहीं दिया था. इसी आतंकी की पहचान बाद में अजमल कसाब के नाम से हुई थी.
इसी दिन 26/11 की रात, गिरगांव चौपाटी की इस घटना से लगभग 45 मिनट पहले ही आतंकी कसाब और उसके आतंकी साथी से 8 पुलिस कर्मियों की टीम का सामना हो गया था. टीम का नेतृत्व हेमंत करकरे कर रहे थे. करकरे और उनकी टीम के पास तुकाराम ओम्बले की तरह केवल लाठी नहीं बल्कि आटोमैटिक पिस्तौलें और राइफलें थीं. करकरे और उनकी टीम तुकाराम ओम्बले की तरह केवल सूती कपडे की सरकारी वर्दी नहीं पहने थी, बल्कि बाकायदा बुलेट प्रूफ जैकेट और हेलमेट पहने हुए थे. बुलेट प्रूफ घटिया थी कहने से काम नहीं चलेगा क्योंकि वो जैकेट चाहे जितनी घटिया रही हो किन्तु तुकाराम ओम्बले की सूती कपडे वाली सरकारी वर्दी से तो हज़ार गुना बेहतर रही होगी.
सिर्फ यही नहीं, गिरगांव चौपाटी पर हुई मुठभेड़ में तो आतंकी कार में, आड़ लेकर बैठे थे जबकि तुकाराम ओम्बले के पास खुली सड़क पर किसी तिनके तक की ओट लेने की गुंजाईश नहीं थी.
जबकि करकरे और उनकी टीम की स्थिति इसके ठीक विपरीत थी.
उनके सामने दोनों आतंकी खुली सड़क पर बिना किसी ओट के खड़े थे और करकरे अपनी टीम के साथ कार के भीतर थे इसके बावजूद उन दोनों आतंकियों ने करकरे समेत उनकी पूरी टीम को मौत के घाट उतार दिया था और करकरे व उनकी पूरी टीम मिलकर उन दोनों को मारना तो दूर उनको घायल तक नहीं कर सकी थी. जबकि निहत्थे तुकाराम ओम्बले ने सीने पर गोलियों की बौछार सहते हुए भी कसाब सरीखे आतंकी को कार के भीतर घुसकर बाहर खींच के सड़क पर पटक दिया था. यह था वो ज़ज़्बा और जूनून जिसने तुकाराम ओम्बले को शहादत के सर्वोच्च शिखर पर पहुंचा दिया.
करकरे और उनकी टीम उन दो आतंकियों का सामना क्यों नहीं कर सकी थी.?
इस सवाल का जवाब देश को आजतक नहीं मिला. संकेत देता हूँ कि जवाब क्यों नहीं मिला था.
दरअसल उनके रक्त के नमूने जेजे अस्प्ताल ने इसबात की जांच के लिए फोरेंसिक लैब में भेजे थे कि क्या उन्होंने शराब पी रखी थी.?
फोरेंसिक लैब की जांच का परिणाम क्या निकला था.?
देश को आजतक यह भी नहीं बताया गया.
मित्रों यह कोइ ऐसा रहस्य नहीं था जिसके उजागर करने से देश की सुरक्षा को कोई खतरा उत्पन्न हो जाता. लेकिन देश को यह नहीं बताया गया.
अतः मेरा स्पष्ट मानना है कि, उस रात यदि वास्तव में कोई शहीद हुआ था, जिसकी शहादत के समक्ष पूरा देश सदा नतमस्तक होता रहेगा, तो वो नाम था तुकाराम ओम्बले का.
जबकि हेमंत करकरे और उनकी टीम की मौत उस रात उन आतंकियों के हाथों मारे गए अन्य नागरिकों की तरह ही हुई एक मौत मात्र थी. क्योंकि शहीद वो कहलाता है जो तुकाराम ओम्बले की तरह सामने खड़े दुश्मन पर जान की परवाह किये बिना टूट पड़ता है. इस आक्रमण में हुई उसकी मौत को देश और दुनिया शहादत कहती है.
यदि हेमंत करकरे और उनके साथी शहीद हैं तो फिर उस रात आतंकियों द्वारा मारा गया हर नागरिक शहीद है.
आज यह विवेचन इसलिए क्योंकि कांग्रेसी इशारे पर साध्वी प्रज्ञा के साथ हेमंत करकरे द्वारा किये गए राक्षसी अत्याचारों और फर्ज़ीवाड़े की अदालत और जांच में उडी धज्जियां के बाद उजागर हुई अपनी साज़िशों पर पर्दा डालने के लिए कांग्रेस ने यह विधवा विलाप प्रारम्भ किया है क़ी साध्वी प्रज्ञा की रिहाई से शहीद हेमंत करकरे और उनकी शहादत का अपमान हुआ है.
मित्रों इस देश में अब शहादत का सर्टिफिकेट वो कांग्रेस नहीं बाँट सकती जो सरकारी किताबों में भगत सिंह, चन्द्रशेखर आज़ाद को आतंकवादी और नेहरू को महान स्वतंत्रता सेनानी लिखकर देश के बच्चों के मन में ज़हर घोलती रही हो.

आसमान में थूकने चले थे युगपुरुष | आसमान ने आज तक का सभी का थूका हुआ उन्ही पर पड़ा है |

Received fromWhatsApp-Author unkown.

आसमान में थूकने चले थे युगपुरुष | आसमान ने आज तक का सभी का थूका हुआ उन्ही पर पड़ा है |

स्वयं स्वघोषित फर्जी राजा हरिश्चंद्र जी ने एडमिशन लिया था जिंदल के मैनेजमेंट कोटे से | अरविन्द केजरीवाल का IIT- खड़गपुर में प्रवेश परीक्षा JEE के बजाय बिना नियमों का पालन किये जिंदल के सौजन्य से स्टाफ कोटे से हुआ था |

चला था प्रधानमंत्री की डिग्री के लिए RTI करने | उसी की डिग्री की असलियत पता चल गयी | बैक डोर से IIT में एडमिशन लेकर IIT करने का दम भरने वाला अरविंद फर्जीवाल केजरी बड़ा महारथी निकला | हिन्दुस्तान टाइम्स के एक रिपोर्टर ने RTI के जरिए से खुलासा हुआ कि 1985 में IIT में प्रवेश लेने वाले फर्जीवाल ने IITJEE परीक्षा नहीं दी थी | उसे एडमिशन दिलाया IIT खड़गपुर के तत्कालीन निदेशक प्रोफ़ेसर जी० एस० सान्याल और नवीन जिंदल के पिता के नज़दीकी संबंधों ने | दरअसल खड़गपुर में स्टाफ ने अपने आश्रितों के लिए प्रवेश के गैरकानूनी तरीके से रास्ता बना रखा था | जिसे सरकार ने गैरकानूनी मानते हुए 2005 में समाप्त कर दिया |

अरविन्द केजरीवाल के पिता गोविंद राम केजरीवाल 1985 में जिंदल स्टील में उच्च पद पर थे | उन्हीं ने जिंदल से कहलवा कर जी० एस० सान्याल के कोटे से IIT खड़गपुर में ऑल इंडिया रैंकिंग के न रहते हुए प्रवेश दिलाया था |

जो लोग फ़र्जीवाल के DNA की जाँच कराना चाहते थे, उनके लिए यह सूचना अत्यन्त महत्वपूर्ण है. बॉयोलॉजिकल फ़ादर जहाँ गोविंद राम केजरीवाल हैं वहीं IIIT खड़गपुर में प्रवेश लेते समय प्रोफ़ेसर जीएस सान्याल को बाप बना लिया था (केजरीवाल इतना नीचे गिर जाएगा कि बाप भी बदल लेगा ये तो सोचा भी न था) |

इसने किसी मेधावी छात्र का अधिकार मारा है | बड़ा भ्रष्टाचार भ्रष्टाचार करता रहता है न, सबसे बड़ा भ्रष्टाचारी यही है | क्योंकि जिसका जन्म ही भ्रष्टाचार से हुआ हो वो अच्छे आचरण कहाँ से ले आएगा | एक चोर को हर व्यक्ति में अपने जैसा चोर ही नजर आता है सबको संदेह की निगाहों से देखता है | मित्रों अब समझ में आया ये डिग्री डिग्री क्यों चिल्लाता रहता है, क्योंकि इसकी खुद की डिग्री ही फर्जी है |

इसके ऊपर दो-दो बाप रखने का भ्रष्टाचार का मामला बनता है

स्वघोषित नकली राजा हरिश्चंद्र अरविन्द केजरीवाल दिल्ली की जनता ने काम करने के लिए चुना है औकात से बढ़कर नौटंकी करने के लिए नहीं |

 

Game Plan- Create Dissention in each Group that Voted for Modi

From WahtsApp by Pankaj Ojha

मई 2014
मोदीजी pm बन गए
रिपोर्ट आई की
इस बार मोदी को
एक तरफ़ा वोट मिला
1) नोजवानों से ,
खासकर कॉलेज छात्रों से
2) कमजोर तबकों से,
खासकर दलितों से
3) हिन्दू समाज से,
खासकर मध्यम वर्ग से
4) गुजराती लोगों से,
खासकर पटेलों से
5) मुस्लिम समाज से,
खासकर गरीब मुस्लिम से
6) महिलाओं से,
खासकर धर्मप्रेमी महिलाओं से
7) व्यापारी वर्ग से,
ख़ासकर छोटे मझोले वर्ग से
8) देश के थिंकटैंक से,
खासकर बुद्धिजीवी वर्ग से
ऐसे कई कई वर्गों ने अपनी
पुश्तैनी राजनीतिक निष्ठां
को दरकिनार कर मोदी को
वोट दिया। कश्मीर से
कन्याकुमारी तक यही देखने में
आया।
हर राजनीतिक दल इसे महसूस कर
पाया,
पुरे भारतवर्ष में।
इसका तोड़ निकाला गया।
नतीजा आज आपके सामने है।
हर उस वर्ग को सबसे पहले
चिन्हित किया गया जिसने
मोदी को एक तरफ़ा वोट
दिया। फिर उस वर्ग की
“दुखती नस” मार्क की गई और
खेल शुरू हुआ।
बेहद सटीक और बारीकी से
चुन चुन कर इन वर्गों को टारगेट
करना शुरू हुआ।
किरदार लिखे गए और
हर वर्ग को एक टार्गेटेड
किरदार दिया गया।
उसकी टाईमिंग तय की गई।
और अपने हाथ में रिमोट रखा
प्रमुख विपक्षी दल ने ।
भांड मीडिया इसमें अहम रोल
अदा करने वाला था।
मकसद इन सबका एक था-
हर वर्ग को तोडना,
हर वर्ग को जहर से भरना,
हर वर्ग को छिन्न भिन्न करकें
रखना ,
ताकि फिर वो भविष्य में,
कभी एक होकर,
मोदी को वोट ना दे
अब आप खुद इस बड़े से खेल को
समझिये,
इनकी परफेक्ट टाइमिंग को
समझिये,
इनके वेल प्लेसड किरदारों को
देखिये,
बेहद खूबसूरत स्क्रिप्ट को
पढ़िए। हर बयान की एक परफेक्ट
टाइमिंग
स्पष्ट रखी दिखेगी।
1) नोजवानों के लिए
JNU वाला उमर खालिद
किरदार
2) दलित वर्ग के लिए
रोहित वेमुला वाला किरदार
3) हिन्दू वर्ग के लिए
फ़िल्मी खान वाला किरदार
4) गुजरती पटेलों के लिए
हार्दिक पटेल वाला किरदार
5) मुस्लिमो के लिए
अख़लाक़ वाला किरदार
6) महिलाओं के लिए
शनि शिंगापुनकर वाली
किरदार
7) व्यापारी वर्ग के लिए
GST वाला किरदार
8) बुद्धिजीवी वर्ग के लिए
असहिष्णडू वाला किरदार
मजे और आश्चर्य की बात यह की
इसमें नया कुछ भी नही है। वर्षो
से समाज में चली आ रही
बुराइयों को ही आधार बनाया
गया है।
सिर्फ मोहरे बदल कर
नए वो किरदार लाये गए हैं
जो जवान है
जोश से भरपूर हैं।
ये तो बानगी है उन किरदारों
की अब तक सामने आ गए हैं।
भविष्य में और भी सामने आएंगे ,
अपनी परफेक्ट
स्क्रिप्ट और टाइमिंग के साथ।
आपको ,
हमको ,
हिंदुस्तान,
को तोड़ने की साजिश के साथ।
सजग रहिएगा
होश से काम लीजिएगा
अपने विवेक को
मरने न दीजियेगा
अपनी एकता बनाये रखना
किसी भी उकसावे में न फँसना
हम “अनेक” थे
हम “अनेक” हैं
हम “अनेक” ही रहेंगे
अपनी इसी
“अनेकता में एकता”
में हमारी ताकत और
सुनहरा भविष्य निहित है
हमारी सोच और कल्पना से भी
आगे/बड़े ,
इस गेमप्लान की हवा को,
सिर्फ हमारी
शालीन ,गरिमापूर्ण,
मजबूत एकता से ही निकला जा
सकता है।
धीरज संयम रखकर,
मोदीजी को आपका और आपके
बच्चों का
सुनहरा भविष्य बनाने का
मौका दीजिये
क्योंकि वे अब तक की हर
अग्निपरीक्षा में सफल हुए हैं

My comments: BEWARE of the Wolves. Stay United. 2019 battle has already started. Take this message to every home and also to BJP leaders in your area.

Hildaraja's Blog

about my reactions and responses to men and affairs

બોઝિલ

EXISTANCE ON THE EARTH IS STILL BOZIL ..

રઝળપાટ

- મારી કલમ ના પગલા

World Hindu Economic Forum

Making Society Prosperous

Suchetausa's Blog

Just another WordPress.com weblog

Guruprasad's Portal

Inspirational, Insightful, Informative..

Aksharnaad.com

Read, Listen, Feel Gujarati.

Ramani's blog

Health Mantras Hinduism Research Global Hinduism Indian History Science Vedic Texts

Jayshree Merchant

Gujarati Writer & Poet

churumuri

swalpa sihi, swalpa spicy

થીગડું

તૂટી-ફૂટી ગયેલા વિચારો પર કલમ થી માર્યું એક થીગડું.....

Swami Vivekananda

Let noble thoughts come to us from all sides, news too..

Acta Indica › The St Thomas In India History Swindle

Articles on the dubious Saint Thomas in India legend by noted historians, researchers, and journalists

2ndlook

Take a 2ndlook | Different Picture, Different Story

उत्तरापथ

तक्षशिला से मगध तक यात्रा एक संकल्प की . . .

Stories from the Heartland

One Californian's life as a Midwest transplant

Vicharak1's Weblog

My thoughts and useful articles from media

%d bloggers like this: