Blog Archives

मधर्स डे- दुसरो को नीचा दिखाने से आप महान नहीं बन सकते।

A post circulating in Bharat about Mother’s Day and my response.  – Gaurang Vaishnav

विदेशो में एक महिला 2 या तीन शादी करती है और पुरुष भी। इसलिए उनकी संताने 14 पंद्रह साल के होने के बाद अलग रहने लगते हैऔर उनके जैविकमाता पिता अपनी अपनी अलग अलग जिंदगी जीते है।इसलिए बच्चे साल में एक बार अपने माता या पिता से मिलने जाते है क्यों कि
उनके माता पिता तो साथ रहते * *नहीं है इसलिए माता को मिलने का अलग दिन निर्धरित किया है *और उसी तरह पिता से मिलने का अलग दिन।
जो मदर्स डे और फादर्स डे के नाम से जाने जाते है।
भारत में हम बच्चे अपने माता और पिता के साथ ही रहते है और वो दोनों भी पूरी जिंदगी अपने बच्चों के साथ रहते है।
इसलिये यहाँ हर दिन माता पिता का है।

उन्हें साल के एक दिन की जरुरत नहीं है।
माँ को याद करने के लिए किसी “मदर डे” की जरुरत नहीं , हिन्दू धर्म में तो माँ के कदमो में ही स्वर्ग बताया गया है।
यह मदर डे के चोचले तो उनके लिए है जो साल में एक बार अपनी माँ को याद करने का बहाना।

==================

Response:

दुसरो को नीचा दिखाने से आप महान नहीं बन सकते।
यह बात इतनी सरल नहीं है जैसे की इस पोस्ट में बताया गया है| पश्चिम में हर व्यक्ति एक से ज्यादा बार विवाह नहीं करता| संतान भी उच्च महाविद्यालय का शिक्षण संपूर्ण होने पर ही अपना घर बनाते है; जो संतान उच्च महाविद्यालय नहीं जाते, वो आजीविका का प्रबंध होने के बाद ही विभक्त होते हैं| यह एक सम्पूर्णत: मुर्ख निवेदन है की Mother’s Day और Father’s Day पर ही संतान अपने माता या पिता को मिलने जाते है| औसत: विवाह होने के पश्चात भी संतान और उनका कुंटुंब माँ-बाप को मिलने के लिए समय समय पर आते ही रहते हैं| कई घरो में संतान विभक्त होने के बाद भी उनका शयन कक्ष उनके लिए ही आरक्षित रखा जाता है और जब भी वो घर आते है तब उनका निवास वही होता है| मैं ऐसे परिवारों को जानता हूँ जहां वृद्ध या अपंग माता/पिता की सेवा के लिये पुत्री अविवाहित रही हो|
 
यह बात नहीं कि यहाँ के समाज में कौटुंबिक समस्या नहीं हैं| यहाँ की समस्याऐं भारत की तुलना में अधिक गंभीर है पर हमारे समाज का समाधान हम उन पर थोप नहीं सकते क्योंकि दोनों समाज की अवधारणा में मुलत: भिन्नता है| पश्चिम का समाज अधिकाधिक व्यक्ति-स्वातंत्र्य को महत्व देता है और पूर्व की संस्कृति संयुक्त कुंटुंब को प्राधान्य देता है जिस में व्यक्ति-स्वातंत्र्य को गौण माना गया है|
 
अमेरिका में ४६ वर्ष के निवास के पश्चात मैं इतना शीखा हुं कि कोई भी समाज व्यवस्था से परे रह कर या उसे जिये बिना उसके लिये सामान्यीकरण (generalization) करना नितांत बालोचित (childish) है| 
 
मुझे बड़ा दुःख होता है जब मैं यह देखता हूँ कि बहुधा हमारा समाज अन्य देश, अन्य धर्म या अन्य समाज व्यवस्था को किसी माहिती या अभ्यास और चितन के बिना ही नीचा दिखाने मैं विकृत आनंद लेता है और ऐसा करने से ही भारत की सर्वश्रेष्ठता प्रतिपादित हो जाती है ऐसे भ्रम में राचते है|  
 
यह सच बात है की भारत को पश्चिम के रीत रिवाज और उत्सव-दिनो को अंधतापूर्वक अनुकरण करने की कोई आवश्यकता नहीं है पर यह भी कटु सत्य है कि  social media में भारत के और हिन्दू संस्कृति के अथाग गुणगान होने के  पश्चात भी लाखो माँ-बाप या तो वृद्धाश्रम में है या उनके संतान उनके क्षेमकुशल की चिंता नहीं करते|  
 
वैश्विकरण की विपरीत असर तो हो के ही रहेगी| यह हमारा दुर्भाग्य है की हम अभी भी पश्चिम से अनुशाशन, समय का सन्मान, वाहन चलाने में आत्मसंयम, ग्राहक के प्रति संवेदना, स्वछता, अन्य की असुविधा का विचार, मातृभाषा का गौरव और दैनिक व्यवहार में उपयोग,एक राष्ट्र भावना, लोकशाही का संवर्धन आदि अच्छे गुण हमारे वैयक्तिक और सामाजिक जीवन में आत्मसात करना नहीं चाहते हैं पर कॉलेज डे, चोकोलेट डे, रोज़ डे, वेलेंटाइन डे, मर्स डे, फाधर्स  डे, सांता क्लॉस, क्रिस्टमस और आंग्ल नव वर्ष का उत्सव, विवाह के पहले ही कौमार्यभंग, समलैंगिकता, नशीले पदार्थों का सेवन, इत्यादि को बिना सोचे समझे अपना रहे हैं और इस में गौरव भी लेते है|  अस्तु! 
 
गौरांग वैष्णव 

Syrian Crisis Explained (!)

From WhatsApp

If in case it was all too confusing for you, here’s a summary:

President Assad (who is bad) is a nasty guy who got so nasty his people rebelled and the Rebels (who are good) started winning (hurrah!).

But then some of the rebels turned a bit nasty and are now called Islamic State (who are definitely bad!) while some continued to support democracy (who are still good.)

So the Americans (who are good ) started bombing Islamic State (who are bad ) and giving arms to the Syrian Rebels (who are good ) so they could fight Assad (who is still bad) which was good.

There is a breakaway state in the north run by the Kurds who want to fight IS (which is good) but the Turkish authorities think they are bad, so the U.S. says they are bad while secretly thinking they’re good and giving them guns to fight IS (which is good) but that is another matter.

Getting back to Syria.

So President Putin (who is bad because he invaded Crimea and the Ukraine and killed lots of folks, including that nice Russian man in London with polonium poisoned sushi, has decided to back Assad (who is still bad) by attacking IS (who are also bad ) which is sort of a good thing (!?).

But Putin (still bad) thinks the Syrian Rebels (who are good) are also bad, and so he bombs them too, much to the annoyance of the Americans (who are good) who are busy backing and arming the rebels (who are also good).

Now Iran (who used to be bad, but now they have agreed not to build any nuclear weapons with which to bomb Israel are now good) are going to provide ground troops to support Assad (still bad) as are the Russians (bad) who now have ground troops and aircraft in Syria.

So a Coalition of Assad (still bad) Putin (extra bad) and the Iranians (good, but in a bad sort of way) are going to attack IS (who are bad which is good, but also the Syrian Rebels (who are good) which is bad.

Now the British (obviously good, except that silly anti-Semite who leads the Labor Party, Mr. Corbyn in the corduroy jacket, who is bad) and the Americans (also good) cannot attack Assad (still bad) for fear of upsetting Putin (bad) and Iran (good/bad) and now they have to accept that Assad might not be that bad after all compared to IS (super bad — see Paris, November 2015).

So Assad (bad) is now probably good, being better than IS and, because Putin and Iran are also fighting IS, that may now make them good. America (still good) will find it hard to arm a group of rebels being attacked by the Russians for fear of upsetting Mr. Putin (now good) and that nice mad Ayatollah in Iran (also good?) and so they may be forced to say that the Rebels are now bad, or at the very least abandon them to their fate. This will lead most of them to flee to Turkey and on to Europe or join IS (still the only consistently bad).

To Sunni Muslims an attack by Shia Muslims (Assad and Iran) backed by Russians will be seen as something of a Holy War. Therefore, the ranks of IS will now be seen by the Sunnis as the only Jihadis fighting in the Holy War and hence many Muslims will now see IS as good (duh).

Sunni Muslims will also see the lack of action by Britain and America in support of their Sunni rebel brothers as something of a betrayal (might have a point?) and hence we will be seen as bad.

So now we have America (now bad) and Britain (also bad) providing limited support to Sunni Rebels (bad ) many of whom are looking to IS (good/bad ) for support against Assad (now good) who, along with Iran (also good) and Putin (now, straining credulity, good ) are attempting to retake the country Assad used to run before all this started.

Got it?

Hildaraja's Blog

about my reactions and responses to men and affairs

બોઝિલ

EXISTANCE ON THE EARTH IS STILL BOZIL ..

રઝળપાટ

- મારી કલમ ના પગલા

World Hindu Economic Forum

Making Society Prosperous

Suchetausa's Blog

Just another WordPress.com weblog

Guruprasad's Portal

Inspirational, Insightful, Informative..

Aksharnaad.com

Read, Listen, Feel Gujarati.

Ramani's blog

Health Mantras Hinduism Research Global Hinduism Indian History Science Vedic Texts

Jayshree Merchant

Gujarati Writer & Poet

churumuri

swalpa sihi, swalpa spicy

થીગડું

તૂટી-ફૂટી ગયેલા વિચારો પર કલમ થી માર્યું એક થીગડું.....

Swami Vivekananda

Let noble thoughts come to us from all sides, news too..

Acta Indica › The St Thomas In India History Swindle

Articles on the dubious Saint Thomas in India legend by noted historians, researchers, and journalists

2ndlook

Take a 2ndlook | Different Picture, Different Story

उत्तरापथ

तक्षशिला से मगध तक यात्रा एक संकल्प की . . .

Stories from the Heartland

One Californian's life as a Midwest transplant

Vicharak1's Weblog

My thoughts and useful articles from media

%d bloggers like this: